अब टिहरी झील में भी ले पाएंगे 'शिकारे' का लुत्फ, तैयारियां जोरों पर

अब टिहरी झील में भी ले पाएंगे 'शिकारे' का लुत्फ, तैयारियां जोरों पर

श्रीनगर की डल झील (फाइल फोटो)

देहरादून:

उत्तराखंड की टिहरी झील की सैर के लिए आने वाले सैलानियों को अब जम्मू-कश्मीर की डल झील में चलने वाले 'शिकारों' की तर्ज पर 'तैरती कुटिया' में बैठने का लुत्फ उठाने का मौका मिलेगा।

उत्तराखंड के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री दिनेश धनै ने कहा कि इससे टिहरी झील और इसके आसपास के इलाकों में पर्यटन गतिविधियों को एक नया आयाम मिलेगा। टिहरी झील 42 वर्ग किलोमीटर में फैली है जो डल झील से लगभग दोगुनी है।

शुरुआत में झील में 10 तैरती कुटिया के साथ शुरुआत की जाएगी और पर्यटकों का रुख देखने के बाद धीरे-धीरे इनकी संख्या बढ़ाई जाएगी। धनै ने कहा कि डल झील के मशहूर शिकारों की तर्ज पर हर तैरती कुटिया में 10 फुट चौड़ाई और 12 फुट लंबाई का एक कमरा, इससे सटा एक शौचालय और एक छोटी सी बालकनी होगी।

Newsbeep

पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री ने कहा कि भविष्य में और कमरे बनाने के लिए कुटियों की डिजाइन में सुधार किया जाएगा। मंत्री ने कहा कि तैरती कुटिया पूरी तरह पर्यावरण के अनुरूप होगी। कचरा झील में नहीं गिराया जाएंगा, बल्कि इसे एक अलग चैंबर में डाला जाएगा और झील से दूर जाकर इसका निपटान किया जाएगा।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


मंत्री ने कहा कि मुंबई की एक कंपनी तैरती कुटियों पर काम शुरू कर चुकी है और झील में इसकी शुरुआत करने में कम से कम आठ महीने का वक्त लगेगा। हर तैरती कुटिया पर करीब 40 लाख रुपये की लागत आएगी। पूरी परियोजना की देखरेख झील विकास प्राधिकरण करेगा।