NDTV Khabar

बाढ़ से बेहाल बंगाल, मणिपुर और ओडिशा, ममता रातभर डटी रहीं ऑफिस में

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बाढ़ से बेहाल बंगाल, मणिपुर और ओडिशा, ममता रातभर डटी रहीं ऑफिस में
नई दिल्ली:

पश्चिम बंगाल में बाढ़ के चलते मुख्यमंत्री ममता बनर्जी रविवार रात भर ऑफिस में थीं। वह बाढ़ से खराब हुए हालात को संभालने और लोगों तक राहत पहुंचाने के काम में जुटी रहीं।

भारी बारिश के कारण बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित गुजरात, राजस्थान, पश्चिम बंगाल और ओडिशा में मरने वालों की संख्या बढ़कर कम से कम 81 हो गई है, वहीं 80 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं।

गृह मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि पश्चिम बंगाल में 48 लोगों की मौत हुई है, जबकि राजस्थान में 28 और ओडिशा में पांच लोगों की मौत हुयी है।

पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों में चक्रवात कोमेन के कारण भारी बारिश हुई है। बाढ़ के कारण राज्य के 9,691 गांवों में करीब 37 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। गुजरात में करीब 40 लाख और ओडिशा में 600 से ज्यादा गांवों में करीब 4.8 लाख लोग प्रभावित हुए हैं।

वहीं पश्चिम बंगाल सरकार ने राहत अभियान में 121 नौकाएं तैनात की हैं। राज्य में 5,672 मवेशिशों की भी मौत हुयी है।


मणिपुर में पिछले दो दिन से भारी बारिश की वजह से कई स्थान जलमग्न हो गए और अधिकारियों ने पानी में डूब जाने से तीन लोगों की मौत की पुष्टि की है।

सिंचाई और बाढ़ नियंत्रण विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि थोबाल, बिष्णुपुर, इंफाल पश्चिम, चंदेल, इंफाल पूर्व और चूढ़चंदपुर जिलों के कई हिस्सों में बाढ़ का पानी भर गया है।

उधर, राजस्थान में अब तक बारिश के कारण 28 लोगों की मौत हो चुकी है और राज्य में कई स्थानों पर बाढ़ जैसी स्थिति बनी हुई है। राज्य के कई जिलों में भारी बारिश हुयी है और जालौर, झालावाड़, बारां, सिरोही, बाडमेर तथा डुंगरपुर जिलों में स्थिति विशेष रूप से गंभीर है।

राजस्थान में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की आठ टीमें राहत एवं बचाव कार्य में लगी हुई हैं। इसके अलावा राज्य आपदा मोचन बल, पुलिस और आरएसी की टीमें भी राहत एवं बचाव कार्य में लगी हुयी हैं। राजस्थान में अब तक 630 से ज्यादा लोगों को बचाया गया है।

गुजरात में पिछले कुछ दिनों से हुयी भारी बारिश के कारण बनी बाढ़ की स्थिति से 14 जिले और करीब 40 लाख लोग प्रभावित हुए हैं।

टिप्पणियां

बयान में कहा गया है कि बाढ़ पीडितों के बीच भोजन के 10 लाख से ज्यादा पैकेट हेलीकॉप्टरों से गिराए गए या वितरित किए गए हैं। प्रभावित क्षेत्रों में अस्थायी राहत शिविरों की स्थापना की गयी है। गुजरात में राहत एवं बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ की कुल 17 टीमें तैनात की गई हैं।

ओडिशा में मृतकों की संख्या पांच हो गई है और 600 से ज्यादा गांव तथा करीब 4.8 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। राज्य में 1574 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement