NDTV Khabar

लगातार दूसरे साल स्वदेशी असॉल्ट राइफल 'एक्स-कैलिबर' को भारतीय सेना ने किया रिजेक्ट

एक्स-कैलिबर का इस्तेमाल एके-47 और इंसास की जगह किया जाना था जो कि फिलहाल भारतीय सेना द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले मुख्य हथियार हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लगातार दूसरे साल स्वदेशी असॉल्ट राइफल 'एक्स-कैलिबर' को भारतीय सेना ने किया रिजेक्ट

पिछले साल भी सेना ने एक्सकैलिबर नाम की इस स्वदेशी राइफल को रिजेक्ट कर दिया था.

खास बातें

  1. पीएम मोदी के 'मेक इन इंडिया' अभियान को लगा करारा झटका
  2. एक्स-कैलिबर का होना है एके-47 और आईएनएसएएस की जगह इस्तेमाल
  3. एक्स-कैलिबर का पिछले सप्ताह हुआ परीक्षण असफल रहा
नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मेक इन इंडिया अभियान को करारा झटका लगा है. भारतीय सेना ने लगातार दूसरी साल स्वदेशी असॉल्ट राइफल एक्स-कैलिबर को रिजेक्ट कर दिया है. इस राइफल का इस्तेमाल एके-47 और इंसास की जगह किया जाना था जो कि फिलहाल भारतीय सेना द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले मुख्य हथियार हैं. NDTV को मिली जानकारी के मुताबिक सरकार के ऑर्डिनेंस फैक्टरी बोर्ड द्वारा निर्मित राइफल का पिछले सप्ताह परीक्षण किया गया था लेकिन यह परीक्षण में फेल रही. इसमें कई खामियां मिलीं.

सेना से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, एक्स-कैलिबर फायरिंग के बाद ज्यादा तेजी से झटका देती है. इतना ही नहीं, अत्यधिक चमक और तेज ध्वनि की भी समस्या है जिससे उसे लड़ाई में इस्तेमाल के लिए मुफीद नहीं पाया गया है.

सूत्रों के मुताबिक, राइफल की लोडिंग को आसान बनाने के लिए मैगजीन को फिर से डिजाइन किए जाने की जरूरत है. राइफल में कई सुरक्षा खामियां हैं. कई खामियों और फायरिंग में रुकावट (परीक्षण के दौरान) 20 से भी अधिक बार देखी गई जो कि मानक है.

पिछले साल भी सेना ने एक्स-कैलिबर नाम की इस स्वदेशी राइफल को रिजेक्ट कर दिया था. सूत्रों के मुताबिक, 5.56 एमएम की एक्स-कैलिबर सेना के फायरपावर आवश्यकताओं को पूरा नहीं करती. सूत्रों का यह भी कहना है कि "एक्स-कैलिबर को फिलहाल इस्तेमाल की जा रही 5.56 एमएम की इंसास राइफल का संभावित विकल्प माना जा रहा है लेकिन परीक्षण के दौरान कई खमियां मिलने से इंतजार और बढ़ गया है."

स्वदेशी राइफल के फेल हो जाने की स्थिति में भारतीय सेना को अब अंतरराष्ट्रीय हथियार निर्माता कंपनियों की ओर रुख करना होगा. बोली के निविदा बुलाई जाएगी. निविदा जीतने वाली कंपनी को बड़ी संख्या में असॉल्ट राइफल के निर्माण के लिए भारतीय कंपनियों से संपर्क करना होगा. हालांकि यह बहुत लंबी प्रक्रिया है जिसमें कई वर्षों का समय लग सकता है.

टिप्पणियां
भारतीय सेना फिलहाल एके 47 और इंसास राइफल का इस्तेमाल कर रही है जिसे 1988 में सेना में शामिल किया गया था. बॉर्डर पर दुश्मनों से निपटने के उच्च मारक क्षमता वाली एक्स कैलिबर को इस साल सेना में शामिल किया जाना था. वैसे भारतीय सेना 70 फीसदी हथियार आयात करती है. हालांकि मोदी सरकार ने सेना के आधुनिकीकरण पर अगले एक दशक में लगभग 250 अरब डॉलर खर्च करने का लक्ष्य तय किया है.

   
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement