रंग-बिरंगे फुटवियर की शौकीन थीं शीला दीक्षित, 5 रुपये की पॉकेट मनी में से...

शीला दीक्षित की पसंदीदा पुस्तकें थीं लेविस कैरल की ‘एलिस इन वंडरलैंड’ और ‘थ्रू द लुकिंग ग्लास,व्हाट एलिस फाउंड देयर.’

रंग-बिरंगे फुटवियर की शौकीन थीं शीला दीक्षित, 5 रुपये की पॉकेट मनी में से...

शीला दीक्षित (फाइल फोटो)

नई दिल्ली :

दिल्ली की पूर्व सीएम और प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष शीला दीक्षित (Sheila Dikshit) का शनिवार को निधन हो गया. वह 81 साल की थीं. पारिवारिक सूत्रों के मुताबिक दीक्षित पिछले कुछ समय से अस्वस्थ चल रही थीं और उन्हें शुक्रवार की सुबह सीने में जकड़न की शिकायत के बाद फोर्टिस-एस्कॉर्ट्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां दोपहर बाद तीन बजकर 55 मिनट पर उन्होंने अंतिम सांस ली. शीला दीक्षित को शुरुआत से ही संगीत का बेहद शौक था और वह अपने पसंदीदा गाने सुनने के लिए रेडियो से पास बैठी रहती थीं. संगीत के अलावा दीक्षित (Sheila Dikshit) को किसी भी आम लड़की की भांति तरह-तरह के जूते-चप्पल पहनने का भी खूब शौक था और उनके पास इसका अच्छा कलेक्शन भी था. पढ़ना और फिल्में देखना भी दीक्षित को खूब पसंद था.

15 साल की उम्र में जवाहर लाल नेहरू से मिलने पैदल ही निकल पड़ी थीं शीला दीक्षित

थियेटर में उन्होंने जो पहली फिल्म देखी वह थी ‘हैमलेट'. अपनी जिंदगी से जुड़े इन पहलुओं का खुलासा खुद पूर्व मुख्यमंत्री ने अपनी आत्मकथा,‘सिटीजन दिल्ली: माई टाइम्स, माई लाइफ'में किया था. यह पुस्तक पिछले साल प्रकाशित हुई थी. आत्मकथा में दीक्षित लिखती हैं,‘टेलीविजन नहीं था और रेडियो सुनने के लिए भी दिन में कुछ घंटे निर्धारित थे. जिंदगी स्कूल की पढ़ाई करने और वक्त बिताने के लिए किताबे पढ़ने, कभी-कभी फिल्में देखने और संगीत सुनने के इर्द-गिर्द घूमती थी.' आत्मकथा में दीक्षित कहती हैं कि शुक्रवार की रात बेहद लोकप्रिय पश्चिमी संगीत के कार्यक्रम ‘ए डेट विथ यू'के साथ गुजरती थी. 

3 बार मुख्यमंत्री, एक बार राज्यपाल और सांसद रहीं शीला दीक्षित का निधन, जानें उनके राजनीतिक सफर के बारे में

Newsbeep

इस कार्यक्रम में नए गाने सुनाए जाते थे. उनकी पसंदीदा पुस्तकें थीं लेविस कैरल की ‘एलिस इन वंडरलैंड' और ‘थ्रू द लुकिंग ग्लास,व्हाट एलिस फाउंड देयर.' इसके अलावा उन्हें शेरलक होम्स की सीरीज भी पसंद थीं. पुस्तक में दीक्षित (Sheila Dikshit) ने फुटवेयर के प्रति अपने जुनून के बारे में बताया है. वह कहती हैं कि उस समय उन्हें पांच रुपए पॉकेट मनी के तौर पर मिलते थे और कुछ ही दिनों में उन्होंने सिंपिल डिजाइन वाले रंग बिरंगे फुटवेयर खरीदने के लिए पर्याप्त धन बचा लिया था. (इनपुट-भाषा )  

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video: सदाबहार राजनेता के सवाल पर शीला दीक्षित ने दिया था यह जवाब...