NDTV Khabar

जम्मू कश्मीर के पूर्व CM उमर अब्दुल्ला को किया जाएगा शिफ्ट, अब घर के पास ही रहेंगे नजरबंद: सूत्र

जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला (Omar Abdullah) को गुपक्कर रोड स्थित उनके घर के पास एक बंगले में शिफ्ट किया जाएगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला को किया जाएगा शिफ्ट
  2. अब घर के पास नजरबंद रहेंगे उमर अब्दुल्ला
  3. NDTV को सूत्रों ने दी जानकारी
नई दिल्ली:

जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला (Omar Abdullah) को गुपक्कर रोड स्थित उनके घर के पास एक बंगले में इसी हफ्ते शिफ्ट किया जाएगा. सूत्रों ने NDTV को यह जानकारी दी. वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) का स्थान नहीं बदला जाएगा. बता दें कि उमर अब्दुल्ला अभी वर्तमान में गुपक्कर रोड स्थित हरिनिवास गेस्ट हाउस में हैं.

अनुच्छेद 370 : 31 अक्टूबर से जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों पर कौन सा नियम होगा लागू?

49 वर्षीय उमर अब्दुल्ला को जम्मू कश्मीर के दो पूर्व मुख्यमंत्रियों (फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती) के साथ बीते पांच अगस्त को आर्टिकल 370 हटाए जाने की पूर्व संध्या पर हिरासत में लिया गया था. सरकार ने पांच अगस्त जम्मू कश्मीर को मिले विशेष राज्य का दर्जा खत्म करने के साथ-साथ उसे दो केंद्र शासित प्रदेश में बांटने का फैसला लिया था.


महबूबा मुफ्ती की बेटी ने अपनी सुरक्षा को लेकर सरकार पर साधा निशाना, कहा - आप तो बस...

सूत्रों ने बताया कि सरकार का यह कदम अगले हफ्ते केंद्रीय मंत्रियों के एक प्रतिनिधिमंडल के संभावित कश्मीर दौरे के साथ-साथ अगले महीने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे को ध्यान में रखकर उठाया गया है.

हिरासत से नेताओं की रिहाई की मांग करते हुए पीडीपी ने श्रीनगर और जम्मू में की बैठक

टिप्पणियां

उमर अब्दुल्ला पिछले पांच महीनों से राज्य के गेस्टहाउस हरि निवास में नजरबंद हैं. वहीं, उनके पिता, 82 वर्षीय फारूक अब्दुल्ला को उनके घर पर ही नजरबंद रखा गया है.

VIDEO: जम्मू-कश्मीर के हालातों का जायजा लेने के लिए श्रीनगर पहुंचा राजनयिकों का दल



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... IMF की नजर अब नागरिकता कानून और NRC के खिलाफ प्रदर्शनों पर भी, 7 बड़ी बातें

Advertisement