NDTV Khabar

10 सेकंड इंतज़ार करना पड़ा, तो यूपी में बीजेपी विधायक ने जड़ दिया टोल प्लाज़ा कर्मी को थप्पड़...

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
10 सेकंड इंतज़ार करना पड़ा, तो यूपी में बीजेपी विधायक ने जड़ दिया टोल प्लाज़ा कर्मी को थप्पड़...

टोल प्लाज़ा कर्मी के साथ मारपीट करते कैमरे में कैद हुए बीजेपी विधायक राकेश राठौर...

बरेली: देशभर में एक ओर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार 'अकड़' दिखाने का ज़रिया बन चुके 'वीआईपी कल्चर' को खत्म करने के लिए नेताओं की कारों पर से 'लाल बत्ती' हटा चुकी है, और चौतरफा तारीफ हासिल कर रही है, वहीं शायद कुछ नेताओं का दादागिरी दिखाने का शौक आज भी खत्म नहीं हुआ है... सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का एक विधायक टोल प्लाज़ा कर्मियों के साथ 'गुंडागर्दी' करते दिख रहा है...

टोल प्लाज़ा पर लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में उत्तर प्रदेश के सीतापुर से विधायक राकेश राठौर को टोल प्लाज़ा कर्मी पर हमला करते और थप्पड़ मारते देखा जा सकता है, क्योंकि वह कर्मचारी विधायक के स्टाफ से बहस कर रहा था... एक बार हमला करने के बाद भी विधायक को बैरियर हटाकर दूसरी बार कर्मचारी को पकड़ते देखा जा सकता है... बताया गया है कि यह घटना बरेली के निकट नेशनल हाईवे पर हुई, लेकिन यह पता नहीं चल पाया है कि घटना कब हुई...

----- ----- वीडियो रिपोर्ट ----- -----
----- ----- ----- ----- ----- -----


मिली ख़बरों के मुताबिक, विधायक की नाराज़गी की वजह यह थी कि उन्हें और उनके काफिले को टोल पार करने में 10 सेकंड का इंतज़ार करना पड़ा... विधायक के स्टाफ ने कथित रूप से टोल की रकम देने से इंकार किया था, और बिना भुगतान किए टोल पार कर जाना चाहते थे...

गौरतलब है कि कुछ ही हफ्ते पहले शिवसेना के सांसद रवींद्र गायकवाड़ ने एयर इंडिया के एक मैनेजर के साथ मारपीट की थी, और फिर शेखी बघारते हुए कहा था, "मैंने उसे 25 बार चप्पल से मारा..." इसके बाद रवींद्र गायकवाड़ पर विमानन कंपनियों ने विमान यात्रा करने पर प्रतिबंध लगा दिया था, जिसे सांसद द्वारा लिखित में खेद प्रकट करने के बाद ही हटाया गया...

'ताकत की अकड़' या 'वीआईपी कल्चर' को खत्म करना ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा समूचे भारत में, बिना किसी अपवाद के, लाल बत्ती को प्रतिबंधित करने के फैसले का मकसद है... इस प्रतिबंध के दायरे में केंद्रीय मंत्री, मुख्यमंत्री तथा उच्च सरकारी अधिकारियों के साथ-साथ राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री तथा देश के प्रधान न्यायाधीश भी शामिल हैं... प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर पर कहा भी था, "प्रत्येक भारतीय विशेष है... प्रत्येक भारतीय वीआईपी है..."


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement