NDTV Khabar

बारुदी सुरंग विस्फोट के आरोप में गढ़चिरौली पुलिस ने पति-पत्नी को किया गिरफ्तार

पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों की पहचान नर्मदाक्का और किरण कुमार के रूप में की है. नर्मदाक्का वेस्टर्न सबजोनल की प्रमुख है और किरण कुमार उसका पति है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बारुदी सुरंग विस्फोट के आरोप में गढ़चिरौली पुलिस ने पति-पत्नी को किया गिरफ्तार
मुंबई:

गढ़चिरौली पुलिस ने एक मई को नक्सलियों द्वारा की किए बारुदी सुरंग विस्फोट के मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों की पहचान नर्मदाक्का और किरण कुमार के रूप में की है. नर्मदाक्का वेस्टर्न सबजोनल की प्रमुख है और किरण कुमार उसका पति है. बात दें कि एक मई को कुरखेड़ा में हुए बारुदी सुरंग विस्फोट में इन दोनों के शामिल होने की जानकारी पुलिस को मिली थी. इसके बाद से इनकी तलाश शुरू कई गई थी. गढ़चिरौली पुलिस के अनुसार उन्हें सूचना मिली थी कि ये दोनों तेलंगाना से सिरोचा के रास्त गढ़चिरौली में आने की फिराक में थे.

नक्सलियों ने एक बार फिर दिया झीरमघाटी जैसी घटना को अंजाम, जाने कब-कब हुआ ऐसा हमला 


इस सूचना पर काम करते हुए गढ़चिरौली पुलिस ने तेलंगाना पुलिस के साथ मिलकर एक ज्वाइंट ऑपरेशन चलाया और आरोपियों को सिरोचा बस डिपो के पास से गिरफ्तार कर लिया. पुलिस के अनुसार नर्मदाक्का के खिलाफ अकेले गढ़चिरौली जिले में 65 मामले दर्ज हैं. बता दें कि एक मई को हुए विस्फोट में 15 पुलिसवाले और एक ड्राइवर की मौत हो गई थी. पुलिस के अनुसार उस धमाके में इन दोनों का ही हाथ था. पुलिस फिलहाल गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ कर रही है.

Chhattisgarh Attack : छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, बीजेपी विधायक समेत 5 की मौत

गौरतलब है कि पुलिस की टीम पर नक्सली हमले की बीते कुछ समय में कई घटनाएं सामने आई हैं. कुछ दिन पहले छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बीजापुर में तोंगगुड़ा कैंप (Tongguda Camp) के बाहर हुए नक्सली हमले (Naxal attack) में 2 जवान शहीद हो गए थे, वहीं, एक की हालत काफी गंभीर थी. कैंप से बाहर निकले जवानों पर नक्सलियों की स्मॉल एक्शन टीम ने हमला किया था. घायल जवान को चेरला के अस्पताल में भर्ती कराया गया था. डीआईजी सुंदरराज ने घटना की पुष्टि की थी. शहीद जवानों के नाम अरविंद मिंज (सहायक आरक्षक) और सुक्कू हपका था .

यह भी पढ़ें:  Dantewada Ground Report: ग्रामीण से मिलने का मोह छोड़ अगर मान लेते पुलिस की सलाह तो बच सकती थी बीजेपी नेता की जान

बता दें कि हाल ही में छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा (Dantewada) में नक्सली (Naxal Attack) हमले में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के MLA भीमा मंडावी (Bheema Mandavi) की मौत हो गई थी. हमले में भीमा मंडावी के अलावा 3 पीएसओ और ड्राइवर की मौत हो गई थी. नक्सलियों ने भीमा मंडावी (BJP Convoy Attacked) के काफिले को निशाना बनाया था. 

यह भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में BJP के काफिले पर नक्सलियों ने किया हमला, MLA भीमा मंडावी समेत 5 की मौत

टिप्पणियां

विधायक भीमा मंडावी के काफिले को उस समय निशाना बनाया गया था तब वह तब चुनाव-प्रचार करने जा रहे थे. बता दें कि भीमा मंडावी ने पिछले साल विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के देवती कर्मा को हराकर दंतेवाड़ा में जीत दर्ज की थी. सूत्रों के मुताबिक नक्सलियों ने पहले सुरक्षाकर्मियों को निशाना बनाया. इसके बाद जब भीमा मंडावी अपनी गाड़ी से बाहर निकले तब उन्हें मौत क घात उतार दिया. बता दें कि छत्तीसगढ़ में तीन चरणों में चुनाव होने हैं. यहां 11 अप्रैल, 18 अप्रैल और 23 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे.

VIDEO: ग्राउंड रिपोर्टः दंतेवाड़ा में हुए नक्सली हमले में कैसे हुई बीजेपी विधायक और सुरक्षाकर्मियों की हत्या



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement