दिल्ली के ग्रेटर कैलाश में 15 साल की लड़की के साथ गैंगरेप, एक नाबालिग समेत 4 गिरफ्तार

पीड़िता का आरोप है कि उसका एक नाबालिग (Juvenile) दोस्त उसे बहला-फुसलाकर साथ ले गया. वहां नाबालिग लड़के और उसके 3 दोस्तों ने उसके साथ रेप किया. पुलिस सभी आरोपियों से पूछताछ में जुटी है.

दिल्ली के ग्रेटर कैलाश में 15 साल की लड़की के साथ गैंगरेप, एक नाबालिग समेत 4 गिरफ्तार

Delhi पुलिस का कहना है कि नाबालिग लड़का पीड़िता को पहले से जानता है. (प्रतीकात्मक) 

नई दिल्ली:

दिल्ली के ग्रेटर कैलाश-1 (Greater Kailash Gang Rape) में 15 साल की लड़की के साथ गैंगरेप (Delhi Gang Rape) का मामला सामने आया है. इस घटना में एक नाबालिग समेत 4 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.पीड़िता का आरोप है कि उसका एक नाबालिग (Juvenile) दोस्त उसे बहला-फुसलाकर साथ ले गया. वहां नाबालिग लड़के और उसके 3 दोस्तों ने उसके साथ रेप किया. पुलिस सभी आरोपियों से पूछताछ में जुटी है.


पुलिस (Delhi Police) के मुताबिक, लड़की अपने कामकाज वाली जगह पर उस नाबालिग लड़के से मिली थी. दोनों की दोस्ती हो गई लेकिन एक महीने बाद लड़के ने नौकरी छोड़ दी. कुछ दिनों बाद उसने लड़की को उसके कामकाज की नई जगह आने को कहा. शनिवार को लड़की उस जगह गई, जहां लड़के के तीन दोस्त पहले से ही मौजूद थे. लड़की का आऱोप है कि सर्वेंट क्वार्टर में उन सभी ने उसके साथ दुष्कर्म (Rape) किया. नाबालिग के अलावा तीन अन्य लड़कों में एक 18 साल, दूसरा 20 साल और तीसरा 30 साल का है. पुलिस का कहना है कि उसे रविवार को शिकायत मिली थी और चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर जांच की जा रही है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


दिल्ली पुलिस (Delhi Police) का दावा है कि अक्टूबर तक इस साल में दुष्कर्म के दर्ज मामलों में 28 फीसदी की कमी आई है. इस साल 30 सितंबर तक 1241 रेप की घटनाएं सामने आई हैं. पिछले साल इस दौरान 1723 दुष्कर्म की घटनाएं दर्ज की गई थीं.नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो (National Crime Records Bureau) के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, 2019 में भारत में औसतन हर दिन 87 रेप के मामले सामने आए. जबकि 2019 में चार लाख से ज्यादा महिलाओं के खिलाफ अपराध दर्ज किए गए. यह 2018 से सात फीसदी ज्यादा है.मानवाधिकार कार्यकर्ताओं (Rights Group) का कहना है कि सरकारी आंकड़ों से कहीं ज्यादा दुष्कर्म की घटनाएं (Rape Cases) होती हैं. क्योंकि समाज में तिरस्कार के कारण तमाम घटनाएं सामने नहीं आतीं.