NDTV Khabar

रोहतक जेल में 50 गैंगस्टर्स के बीच रह रहे बाबा राम रहीम, यही हैं उनके नए पड़ोसी

इस वक्त सुनारिया जेल में आठ गैंगस्टर गिरोहों के 50 से अधिक खूंखार बदमाश कैद हैं.गुरमीत राम रहीम को इसी सेल में रखा गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रोहतक जेल में 50 गैंगस्टर्स के बीच रह रहे बाबा राम रहीम, यही हैं उनके नए पड़ोसी

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को सुरक्षा के लिहाज से बैरक के बजाय सेल में रखा गया है.

नई दिल्ली: साध्वी से रेप करने वाले डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम रोहतक जेल में बंद हैं. सोमवार को 20 साल की सजा सुनाए जाने के बाद राम रहीम को बैरक के बजाय सेल में शिफ्ट कर दिया है. जेल अधिकारियों से हवाले से कहा जा रहा है कि बाबा राम रहीम की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है. करोड़ों रुपए के बने डेरा में 'ऐश-ओ-आराम' की जिंदगी बिताने वाले राम रहीम को गैंगस्टर्स के बीच रहना पड़ रहा है. 

ये भी पढ़ें: 'मैसेंजर ऑफ गॉड' को मिली 20 साल की सजा, ट्विटर पर आया ऐसा रिएक्शन

इस वक्त सुनारिया जेल में आठ गैंगस्टर गिरोहों के 50 से अधिक खूंखार बदमाश कैद हैं. इन बदमाशों से यहां बंद दूसरे कैदियों को भी खतरा है. इसी वजह से इन्हें सेल में रखा गया है. एक सेल में अधिकतम पांच कैदी रखे जाते हैं. यहां पुलिस का कड़ा पहरा होता है. गुरमीत राम रहीम को भी यहीं रखा गया है. इस तरह गुरमीत राम रहीम के नए पड़ोसी गैंगस्टर्स हैं.

टिप्पणियां
VIDEO:जानें क्यों गुरमीत को मिली सजा को कहा जा रहा ऐतिहासिक


जेल में पूरी रात इधर-उधर ठहलता रहा राम रहीम: मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक- गुरमीत राम रहीम पूरी रात जेल में इधर-उधर टहलता रहा. उन्हें खाने में 4 रोटी और सब्जी दी गई, लेकिन उन्होंने खाना ठीक से नहीं खाया. डेरा प्रमुख से जेल में मजदूरी करवाई जा सकती है,लेकिन वह मजदूरी के लिए फिट है या नहीं इसकी जांच होगी. अगर वह जांच में फिट नहीं पाए गए तो उन्हें चारपाई और कुर्सी बनाने का काम दिया जाएगा. बागवनी और बिस्कुट बनाने का काम भी दिया जा सकता है. ड्यूटी का समय सुबह 8 बजे से शाम 4 बजे है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement