NDTV Khabar

देश में हो सकेगी जीएम सरसों की खेती, जीएम फसल नियामक ने दी मंजूरी

भारत के जीएम फसलों के नियामक ने आज पर्यावरण मंत्रालय को दी गई एक प्रस्तुति में जीन संवर्धित सरसों के वाणिज्यिक उपयोग की सिफारिश की है, हालांकि आरएसएस से संबद्ध निकाय सहित कई संगठनों से इस पर एतराज जताया है.

114 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
देश में हो सकेगी जीएम सरसों की खेती, जीएम फसल नियामक ने दी मंजूरी

तमाम विरोधों के बावजूद GEAC ने जीएम सरसों के कारोबारी इस्तेमाल की अनुमति दे दी है

:

भारत के जीएम फसलों के नियामक ने आज पर्यावरण मंत्रालय को दी गई एक प्रस्तुति में जीन संवर्धित सरसों के वाणिज्यिक उपयोग की सिफारिश की है, हालांकि आरएसएस से संबद्ध निकाय सहित कई संगठनों से इस पर एतराज जताया है.

जीएम फसलों के मूल्यांकन करने का काम पाने वाले जेनेटिक इंजीनियरिंग एप्राइजल समिति (जीईएसी) ने अपनी प्रस्तुति में इसके लिए सकारात्मक सिफारिश दी है, लेकिन कुछ शर्तों के साथ. मंत्रालय के तहत आने वाले जीईएसी ने सुरक्षा पहलुओं की जांच करने के लिए गठित की गई एक उपसमिति की रिपोर्ट की समीक्षा की. अब पर्यावरण मंत्रालय को इस बारे में अंतिम फैसला करना है. जीईएसी ने मंत्रालय को इसके व्यवसायिक इस्तेमाल की सिफारिश करते हुए कई सारी शर्तों को भी रखा है.

आरएसएस से जुडे़ स्वदेशी जागरण मंच ने इस कदम की आलोचना की है. संगठन का कहना है कि जीएम सरसों के वाणिज्यिक उपयोग को मंजूरी देने का असर कृषि से जुड़ी गतिविधियों पर पड़ेगा.


वहीं जीएम विरोधी संगठनों का तर्क है कि जीएम सरसों के वाणिज्यिक उपयोग को मंजूरी दे कर जीईएसी ने यह दोबारा सिद्ध किया है कि उसका रवैया नागरिकों के स्वस्थ्य के लिए अवैज्ञानिक और बेपरवाह है.

टिप्पणियां

पर्यावरण कार्यकर्ता वंदना शिवा ने भी जीएम सरसों का विरोध किया है. उन्होंने कहा कि यह अवैध है और इसको विकसित करने वालों ने फर्जी साइंस किया है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement