NDTV Khabar

गिलानी के नाती को सरकारी नौकरी मिलने पर घाटी में घट गई थी हिंसा : एनआईए

कश्मीर में आतंकवाद के लिए फंडिंग के मामले की जांच जारी, हिंसा भड़काने में सैयद अहमद शाह गिलानी के दामाद अल्ताफ फंटूश का बड़ा हाथ

306 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
गिलानी के नाती को सरकारी नौकरी मिलने पर घाटी में घट गई थी हिंसा : एनआईए

घाटी में हिंसा भड़काने में अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के दामाद अल्ताफ फंटूश की अहम भूमिका रही है.

खास बातें

  1. फंटूश के बेटे अनीस उल इस्लाम को प्रोजेक्ट मैनेजर की नौकरी मिली
  2. गिलानी के बेटों को भी थी सीमा पार से पैसा आने की जानकारी
  3. नसीम गिलानी से बुधवार को पूछताछ करेगी एनआईए
नई दिल्ली: बीते साल बुरहान वानी के मारे जाने के बाद घाटी में पत्थरबाजी और हड़ताल का जो सिलसिला चला, वह नवंबर में आकर कुछ थम गया. एनआईए के मुताबिक उन दिनों की हिंसा को भड़काने में सैयद अहमद शाह गिलानी के दामाद अल्ताफ फंटूश का बड़ा हाथ रहा. जब नवंबर में गिलानी के दामाद के बेटे को सरकारी नौकरी मिल गई तो वह ठंडा पड़ गया.

एनआईए के मुताबिक नवंबर 2016 में अनीस उल इस्लाम को शेरे कश्मीर इंटरनेशनल सेंटर में प्रोजेक्ट मैनेजर की नौकरी मिली. जिस दिन इंटरव्यू था उस दिन हड़ताल थी. करीब 200 नौजवानों में से फंटूश के बेटे को चुना गया.

यह भी पढ़ें - आतंक के लिए फंडिंग : एनआईए 11 साल तक पाकिस्तान में रहे गिलानी के बेटे से करेगी पूछताछ

एनआईए को फंटूश ने अपनी पूछताछ में बताया है कि घाटी में हिंसा फैलाने के लिए जो पैसा सीमा पार से आता था उसकी जानकारी गिलानी के बेटे नईम और नसीम खान को भी थी. एनआईए ने नसीम को बुधवार को पूछताछ के लिए बुलाया है.

यह भी पढ़ें- गिलानी के दामाद सहित कश्मीर के सात अलगाववादी नेताओं को कोर्ट ने NIA की हिरासत में भेजा

गृह राज्यमंत्री हंसराज अहीर ने रिपोर्टरों से कहा कि "कोई भी हो, भाई हो या बेटा हो, जिसके खिलाफ भी सबूत होगा कार्रवाई की जाएगी."  हालांकि एनआईए के जांच के तौर-तरीके से मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती खुश नहीं बताई जा रही हैं. सोमवार को केंद्रीय गृह सचिव ने उनसे मुलाकात कर जानकारी दी कि जांच में कई अहम सबूत मिले हैं.

यह भी पढ़ें- पाकिस्तान से टेरर फंडिंग का मामला: एनआईए ने हुर्रियत के 7 नेताओं को किया गिरफ़्तार, 5 खास बातें

बहरहाल एनआईए को यह जांच बहुत फूंक-फूंककर और पूरे सबूतों के साथ करनी होगी. उसे अहसास होगा कि जो इल्जाम वो लगा रही है, वह बहुत गंभीर किस्म के हैं और उसकी जरा सी चूक से माहौल बिगड़ सकता है. लेकिन एक सावधान कोशिश राज्य में आतंकवाद की कमर तोड़ भी सकती है.

VIDEO : जांच के घेरे में अलगववादी नेता

उधर एनआईए दफ्तर में आजकल हर रोज किसी न किसी अलगाववादी नेता से पूछताछ का सिलसिला जारी है. आज भी सीमा पार से आतंकवाद को मिल रही आर्थिक मदद के सिलसिले में छह लोगों से पूछताछ हुई.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement