NDTV Khabar

उपराष्‍ट्रपति चुनाव: ये एकतरफा चुनाव नहीं, संविधान के सिद्धांतों पर आधारित लड़ाई- गोपाल कृष्‍ण गांधी

उससे पहले सत्‍तारूढ़ एनडीए के प्रत्‍याशी एम वेंकैया नायडू ने कहा कि मैं किसी के खिलाफ नहीं लड़ रहा हूं और अब किसी दल का सदस्‍य नहीं हूं.

490 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
उपराष्‍ट्रपति चुनाव: ये एकतरफा चुनाव नहीं, संविधान के सिद्धांतों पर आधारित लड़ाई- गोपाल कृष्‍ण गांधी

गोपालकृष्‍ण गांधी (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. उपराष्‍ट्रपति पद के लिए हो रहा मतदान
  2. वेंकैया नायडू ने कहा कि वह किसी के खिलाफ नहीं लड़ रहे
  3. गांधी ने कहा कि ये संविधान के सिद्धांतों पर आधारित लड़ाई
गोपाल कृष्‍ण गांधी ने कहा कि उपराष्‍ट्रपति चुनाव एकतरफा नहीं हैं. यह संविधान के सिद्धांतों पर आधारित लड़ाई है. मैं इसमें पूरी विनम्रता के साथ मैदान में हूं और दूसरी तरफ से भी ऐसा भी किया गया है. उससे पहले सत्‍तारूढ़ एनडीए के प्रत्‍याशी एम वेंकैया नायडू ने कहा कि मैं किसी के खिलाफ नहीं लड़ रहा हूं और अब किसी दल का सदस्‍य नहीं हूं. मैं उप राष्‍ट्रपति पद के लिए चुनाव लड़ रहा हूं और अनेक दल मेरा समर्थन कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: मैं किसी के खिलाफ चुनाव नहीं लड़ रहा- एम वेंकैया नायडू

उधर उपराष्‍ट्रपति पद के लिए मतदान शुरू हो गया है और यह शाम पांच बजे तक होगा एवं सात बजे तक नतीजा आने की उम्‍मीद है. वैसे दोनों सदनों के आंकड़ों के आधार पर यह कहा जा सकता है कि पलड़ा वेंकैया नायडू का भारी है.उपराष्‍ट्रपति चुनाव के लिए शनिवार सुबह 10 बजे से मतदान शुरू हो गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, वेंकैया नायडू और उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने सबसे पहले मतदान किया. पीएम मोदी तो सुबह 10 बजे से पहले ही वोटिंग लाइन में लग गए थे.

यह भी पढ़ें: PHOTOS: उपराष्‍ट्रपति चुनाव के लिए पीएम मोदी ने डाला वोट, सभी सांसद जोश में दिखे

 VIDEO: उपराष्‍ट्रपति पद के लिए मतदान शुरू वैसे संसद के दोनों सदनों के 787 सदस्यीय प्रभावी निर्वाचक मंडल के बीच नायडू बहुत बेहतर स्थिति में हैं. राजग को लोकसभा में स्पष्ट बहुमत हासिल है और दक्षिण भारत के कुछ राजनीतिक दलों का भी समर्थन हासिल है. लोकसभा में अभी 543 और राज्यसभा में 244 सदस्य हैं. लोकसभा में दो सीट रिक्त हैं जबकि राज्यसभा में एक.

भाजपा पदाधिकारियों के मुताबिक, राजग के राज्यसभा के 81 सदस्यों और लोकसभा के 338 सदस्यों के अलावा दोनों सदनों में अन्नाद्रमुक के 50, वाईएसआर कांग्रेस के 10 और तेलंगाना राष्ट्र समिति के 14 सदस्य भी नायडू के पक्ष में मत देंगे. इस तरह 493 सदस्यों के साथ नायडू 394 के जरूरी आंकड़े को आसानी से पार कर लेंगे. भाजपा को तो 500 मतों के मिलने की उम्मीद है. महात्मा गांधी के पौत्र, पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल व पूर्व राजनयिक गोपालकृष्ण गांधी विपक्ष के उम्मीदवार हैं. उन्हें कांग्रेस, वामदल, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, द्रमुक, तृणमूल कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी और नेशनल कांफ्रेंस का समर्थन हासिल है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement