Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

गोरखपुर में बच्चों की मौत पर बोले अमित शाह, देश में पहले भी हुए हैं ऐसे हादसे

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि ये कोई पहली बार नहीं हुआ, कांग्रेस के कार्यकाल में भी ऐसे हादसे हुए हैं

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
गोरखपुर में बच्चों की मौत पर बोले अमित शाह, देश में पहले भी हुए हैं ऐसे हादसे

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस के आरोप पर कहा कि उनका काम बस इस्तीफा मांगना है.

खास बातें

  1. गोरखपुर हादसे पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की प्रतिक्रिया सामने आई
  2. उन्होंने कहा कि योगी सरकार ने तय समय में जांच के आदेश दिए हैं
  3. अमित शाह ने कहा - कांग्रेस का काम बस इस्तीफा मांगना है
नई दिल्ली:

गोरखपुर हादसे पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की प्रतिक्रिया सामने आई है. अमित शाह ने कहा ''इतने बड़े देश में बहुत सारे हादसे हुए और ये कोई पहली बार नहीं हुआ, कांग्रेस के कार्यकाल में भी हुए हैं.'' वहीं उन्होंने कहा कि योगी ने तय समय में जांच के आदेश दिए हैं. वहां जो भी हुआ है वह एक गलती है.

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस के आरोप पर कहा कि उनका काम बस इस्तीफा मांगना है. उन्होंने कहा कि हम कांग्रेस की तरह बिना जांच किसी पर गलती नहीं थोपते. जांच हो रही है. योगी ने टाइम बाउंड जांच रखी है. जांच का नतीजा आने पर उसे सार्वजनिक करेंगे. ये हादसा है किसी भी स्तर पर हुआ हो लेकिन इससे हमारा गरीबो के विकास के लिए जो इरादा है, आप उससे इनकार नहीं कर सकते.

पढ़ें- गोरखपुर में 5 दिनों में 60 बच्चों की मौतें; सरकार ने बिठाई जांच- 10 खास बातें​


गोरखपुर के मेडिकल कॉलेज में पिछले कुछ दिनों में कई बच्‍चों की मौत के मामले में विपक्षी कांग्रेस ने लखनऊ में धरना-प्रदर्शन किया और जुलूस निकाला. इस दौरान यूपी कांग्रेस अध्‍यक्ष राज बब्‍बर ने कहा कि यूपी की योगी आदित्‍यनाथ सरकार गोरखपुर के मामले में पूरी तरह से जिम्‍मेदार है. उन्‍होंने यह भी कहा कि योगी आदित्‍यनाथ लगातार इस मसले पर झूठ बोल रहे हैं. हालांकि कांग्रेस के इस जुलूस को विधानसभा पहुंचने से रोक दिया गया.

टिप्पणियां

VIDEO : योगी आदित्‍यनाथ ने कहा- दोषियों को ऐसी सजा मिलेगी जो मिसाल बनेगी

इसके साथ ही सोमवार को गोरखपुर के अस्‍पताल में बच्‍चों की मौत के मामले में दखल देने से सुप्रीम कोर्ट ने इनकार कर दिया है. कोर्ट ने कहा कि ये एक राज्य, एक अस्पताल और एक जिले की घटना है. इसलिए याचिकाकर्ता इस मामले में हाई कोर्ट जा सकते हैं. चीफ जस्टिस ने कहा कि हमने टीवी पर  देखा है कि खुद मुख्यमंत्री मामले में निगरानी रखे हुए हैं. केंद्र सरकार के मंत्री भी अस्पताल गए हैं. दरअसल एक महिला वकील राजश्री रेड्डी ने सुप्रीम कोर्ट से इस मामले में संज्ञान लेने की गुहार लगाई थी. इस पर व्‍यवस्‍था देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने यह टिप्‍पणी की.
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... दिल्ली हिंसा : विवेक से नाम पूछा और आर्मेचर सिर पर मार दिया, शादी के 11 दिन बाद ही असफाक की मौत

Advertisement