राज्यसभा में पहले दिन से ही सरकार तैयारी में, ये है एजेंडा

कोरोना संकट और चीन के साथ हुए विवाद को बाद आज संसद का मानसून सत्र शुरू हो गया है. सभी सांसदों के बैठने के लिए विशेष इंतजाम किए गए हैं. इस बार के सत्र में भी सरकार राज्यसभा में फुल एक्शन की तैयारी में है.

राज्यसभा में पहले दिन से ही सरकार तैयारी में, ये है एजेंडा

संसद का मानसून सत्र 14 सितंबर से शुरू हो रहा है (फाइल फोटो)

खास बातें

  • मार्च के बाद पहली बार बैठेगी संसद
  • पीएम मोदी ने की सांसदों से एकजुटता की अपील
  • राहुल गांधी ने साधा है निशाना
नई दिल्ली:

कोरोना संकट और चीन के साथ हुए विवाद को बाद आज संसद का मानसून सत्र शुरू हो गया है. सभी सांसदों के बैठने के लिए विशेष इंतजाम किए गए हैं. इस बार के सत्र में भी सरकार राज्यसभा में फुल एक्शन की तैयारी में है. राज्यसभा की बैठक दोपहर 3 बजे से शुरू होगी. आज सरकार के एजेंडे में कई अध्यादेश और बिल हैं. आज ही राज्यसभा के उप सभापति का भी चुनाव होना है. सत्ता पक्ष की ओर से जगत प्रस्ताव नड्डा हरिवंश के नाम का प्रस्ताव पेश करेंगे तो विपक्ष की ओर से गुलाम नबी आजाद आरजेडी के राज्यसभा सांसद मनोज झा के नाम का प्रस्ताव पेश करेंगे. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्द्धन कोरोना महामारी से निपटने के लिए सरकार की ओर से उठाए गए कदमों की जानकारी देंगे. हालांकि यह सदन की कार्यवाही में बिलकुल आखिर में उल्लेखित है इसलिए शाम 6:30 बजे इसका नंबर आएगा. 

कौन से बिल पेश होंगे
मंत्रियों को वेतन-भत्ता संसोधन बिल 2020 : यह बिल उस अध्यादेश का आदेश लेगा जिसमें कैबिनेट ने एक साल तक मंत्रियों के भत्ते में 30 फीसदी तक कटौती की मंजूरी दी थी. यह अध्यादेश 1 अप्रैल 2020 से लागू है. 


महामारी संशोधन बिल 2020 : यह उस अध्यादेश की जगह लेगा जिसने महामारी एक्ट 1897 में संशोधन की मंजूरी मिली थी.  इसमें महामारी से जूझ रहे हेल्थकेयर से जुड़े लोगों के संरक्षण और केंद्र को ऐसी महामारी से निपटने के लिए और अधिकार मिले थे.  इसके अलावा  होमियोपैथी केंद्रीय परिषद संशोधन बिल 2020, केंद्रीय भारतीय दवा परिषद संशोधन 2020, द एयरक्राफ्ट संशोधन बिल 2020,  आयुर्वेद संस्थान और शिक्षा बिल 2020 शामिल हैं.
 

पीएम मोदी ने संसद सत्र शुरू होने से पहले आज  सोमवार को विश्वास जताया कि संसद एक स्वर में यह संदेश देगी कि वह हमारी सीमाओं की रक्षा करने वाले सैनिकों के साथ एकजुटता से खड़ी है.  संसद का मानसून सत्र शुरू होने से पहले मीडिया को दिये आने बयान में मोदी ने लद्दाख में चीन के साथ चल रहे सीमा गतिरोध के स्पष्ट संदर्भ में कहा कि भारतीय सैनिक कठिन पहाड़ी इलाकों में बहादुरी के साथ अपना कर्तव्य निभा रहे हैं.

Newsbeep

उन्होंने कहा कि संसद में कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा होगी, जितनी चर्चा होगी, उतना ही अच्छा है. उन्होंने कहा, 'मुझे विश्वास है कि सभी सांसद सामूहिक रूप से कई विषयों पर विचार-विमर्श करेंगे. कोविड महामारी का जिक्र करते हुए उन्होंनें कहा कि संसद सत्र विशेष परिस्थितियों में आयोजित किया जा रहा है और सांसदों ने कोविड काल में अपनी ड्यूटी करने का फैसला किया.  उन्होंने कहा कि कोविड-19 से बचाव के लिए सभी उपाय अपनाये जायेंगे. उन्होंने कहा कि वायरस का टीका मिलने तक कोई ‘‘ढिलाई'' नहीं बरती जा सकती है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com