चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के लिए सेना के नियमों में बदलाव- आयु सीमा 65 वर्ष की गई

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (Chief Of Defence Staff) पद के ऐलान के बाद सरकार ने इसकी अधिकतम उम्र सीमा के लिए सेना के नियमों में संशोधन किया है.

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के लिए सेना के नियमों में बदलाव- आयु सीमा 65 वर्ष की गई

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) के लिए नियमों में बदलाव.

खास बातें

  • CDS के लिए अधिकतम आयु सीमा 65 वर्ष की गई
  • तीन साल होगा चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का कार्यकाल
  • रक्षा मंत्रालय की तरफ से जारी की गई अधिसूचना
नई दिल्ली:

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (Chief Of Defence Staff) पद के ऐलान के बाद सरकार ने इसकी अधिकतम उम्र सीमा के लिए सेना के नियमों में संशोधन किया है. नए नियम के तहत अधिकतम उम्र सीमा अब 65 साल होगी. इसकी अधिसूचना रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी की गई. रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार सैन्य नियमावली, 1954 में बदलाव किए गए हैं. सुरक्षा मामलों पर मंत्रिमंडलीय समिति ने मंगलवार को ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए सीडीएस (CDS) के सृजन को मंजूरी प्रदान की थी जो तीनों सेनाओं से संबंधित सभी मामलों के लिए रक्षा मंत्री के प्रमुख सैन्य सलाहकार के तौर पर काम करेंगे. नियमों के अनुसार सैन्य प्रमुख अधिकतम तीन साल या 62 वर्ष की आयु तक, जो भी पहले आए, सेवा कर सकते हैं. सीडीएस चार स्टार जनरल के रैंक का अधिकारी होगा।
 


मोदी कैबिनेट का फैसला: सरकार ने पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का किया ऐलान

बता दें कि 15 अगस्त को लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सेना के तीनों अंगों के प्रमुख के तौर पर 'चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ' (CDS) पद का ऐलान किया था. मालूम हो कि 1999 में कारगिल युद्ध के समय आया यह प्रस्ताव अब तक लंबित था. प्रधानमंत्री मोदी ने 73वें स्वतंत्रता दिवस पर कहा था कि सीडीएस थल सेना, नौसेना और वायुसेना के बीच तालमेल सुनिश्चित करेगा और उन्हें प्रभावी नेतृत्व देगा. प्रधानमंत्री ने कहा था, 'भारत में अब 'चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ' होगा. इससे हमारे सशस्त्र बल और अधिक प्रभावशाली बनेंगे.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

19 साल पहले दिया गया था ‘चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ' का प्रस्ताव, आज PM मोदी ने किया लाल किले से ऐलान

क्या होगा CDS का काम
1999 में करगिल समीक्षा समिति ने सरकार को एकल सैन्य सलाहकार के तौर पर चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के सृजन का सुझाव दिया था. अधिकारियों ने बताया कि सीडीएस का मुख्य कार्य संसाधनों के बेहतर इस्तेमाल के लिए सैन्य कमानों का पुनर्गठन करना, साथ ही संयुक्त थियेटर कमान के गठन के माध्यम से अभियानों को संयुक्त रूप से चलाना होगा. उन्होंने कहा कि तीन वर्षों के अंदर तीनों सेनाओं के अभियानों, साजो-सामान, परिवहन, प्रशिक्षण, सहायक सेवाओं, संचार, देखभाल और मरम्मत को संयुक्त करना सीडीएस का प्रमुख कार्य होगा. दुनिया की सभी बड़ी शक्तियों की सेनाओं में यह पद है.

VIDEO: कैबिनेट ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ पोस्ट को दी मंजूरी