NDTV Khabar

जम्‍मू: पुलिस पार्टी पर ग्रेनेड से हमला, तीन जवान घायल

जम्मू में गुरुवार को एक बस स्टैंड पर संदिग्ध आतंकियों के एक ग्रेनेड हमले में एक थाना प्रभारी सहित तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए जबकि श्रीनगर में सीआरपीएफ के एक शिविर पर इसी तरह का एक दूसरा हमला किया गया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जम्‍मू: पुलिस पार्टी पर ग्रेनेड से हमला, तीन जवान घायल

जम्मू में गुरुवार को एक बस स्टैंड पर संदिग्ध आतंकियों के एक ग्रेनेड हमला किया

खास बातें

  1. जम्मू में एक बस स्टैंड पर संदिग्ध आतंकियों ने ग्रेनेड से हमला किया
  2. थाना प्रभारी सहित तीन पुलिसकर्मी घायल
  3. श्रीनगर में CRPF कैंप पर इसी तरह का एक दूसरा हमला किया गया
नई दिल्ली: जम्मू में गुरुवार को एक बस स्टैंड पर संदिग्ध आतंकियों के एक ग्रेनेड हमले में एक थाना प्रभारी सहित तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए जबकि श्रीनगर में सीआरपीएफ के एक शिविर पर इसी तरह का एक दूसरा हमला किया गया. हालांकि दूसरे हमले में कोई घायल नहीं हुआ.

पाक की गोलीबारी का BSF ने दिया मुंहतोड़ जवाब, तो पाकिस्तानी रेंजर्स ने लगाई गुहार

जम्मू के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक विवेक गुप्ता ने कहा कि बस स्टैंड इलाके में गुरुवार रात ग्रेनेड से हमला किया गया. संदिग्ध आतंकियों ने एक पुलिस वाहन पर ग्रेनेड फेंका. उन्होंने कहा कि हमले में तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए. उनमें से दो को अस्पताल में भर्ती कराया गया जबकि थाना प्रभारी को मामूली चोटें आयीं.

गुप्ता ने कहा कि इलाके की घेराबंदी कर दी गयी और संदिग्धों को पकड़ने के लिए तलाशी शुरू कर दी गयी है. पुलिस ने बताया कि इसी बीच श्रीनगर में गुरुवार रात आतंकियों ने नवकादल के बरारीपोरा में स्थित सीआरपीएफ शिविर की तरफ एक ग्रेनेड फेंका लेकिन उसमें कोई हताहत नहीं हुआ. वहीं जम्मू कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर चल रही लगातार फायरिंग की वजह से सीमा पर बसे गांव खाली हो गए है. करीब 50 हज़ार लोग अपने घर छोड़ कर शिविरों में जाने को मजबूर हैं. इस सब के बीच दोनों देशों में शांति की उम्मीद दम तोड़ रही है. पिछले क़रीब दो हफ़्तों से बॉर्डर के गांवों में लगातार पाकिस्तान की ओर से फ़ायरिंग जारी है, जिससे दस नागरिकों की मौत हो चुकी है. कई घायल हुए हैं.

क्यों ठनी है सेना और जम्मू-कश्मीर के उप मुख्यमंत्री और स्पीकर के बीच

टिप्पणियां
जम्मू से महज़ 30 किलोमीटर दूर आरएस पुरा के गावों में जैसे ही हम और अंदर जाते हैं. सरहदी इलाकों में रहने वाले लोगों की दहशत का अंदाज लग जाता है. पाकिस्तानी गोलाबारी का एक बड़ा शिकार शमका गांव हुआ है. जहां एक भी मकान या दीवार ऐसी नहीं है जिसमें छर्रे ना घुसे हों. सारे लोग गांव से भाग गये हैं, सिवाय श्याम लाल के परिवार के. 

VIDEO: जम्‍मू-कश्‍मीर में एकतरफा सीज़फायर पर बीजेपी का विरोध
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement