NDTV Khabar

अमरनाथ यात्रियों का अब होगा 3 लाख रुपए का बीमा, श्राइन बोर्ड ने लिया फैसला

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल एन एन वोहरा इस बोर्ड के अध्यक्ष हैं, जिन्होंने बीमा राशि की बढ़ोतरी की घोषणा की है. वोहरा के साथ बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी उमंग नरूला भी इस दौरान मौजूद थे.

19 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अमरनाथ यात्रियों का अब होगा 3 लाख रुपए का बीमा, श्राइन बोर्ड ने लिया फैसला

अमरनाथ यात्रा की फाइल तस्वीर

श्रीनगर: श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड (एसएएसबी) ने तीर्थयात्रियों के लिए सामूहिक बीमा में बढ़ोतरी की घोषणा की और इसे एक लाख से बढ़ाकर अब तीन लाख रुपये तक कर दिया गया है. बोर्ड दक्षिण कश्मीर में 3,880 मीटर उंचाई पर स्थित पवित्र गुफा मंदिर के लिए सालाना यात्रा का प्रबंधन संभालता है. जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल एन एन वोहरा इस बोर्ड के अध्यक्ष हैं, जिन्होंने बीमा राशि की बढ़ोतरी की घोषणा की है. वोहरा के साथ बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी उमंग नरूला भी इस दौरान मौजूद थे. उन्होंने इस यात्रा के बालटाल आधार शिविर वाले मार्ग का हवाई जायजा लिया और पवित्र गुफा, पंजतरणी, बालटाल और दोमेल आधार शिविरों और नीलग्रथ हेलीपैड का दौरा किया.

चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा के इंतजाम

इस साल शिव भक्तों के लिए अच्छी खबर है, पिछले साल के मुकाबले इस साल बाबा बर्फानी का आकार ज्यादा बड़ा है. बाबा भोलेनाथ के साथ मां पार्वती भी हैं और पहरे पर बैठे नंदी भी. अमरनाथ यात्रा इस साल 29 जून से शुरू हो रही है. दर्शन करने वालों की तादाद बढ़ती जा रही है और यात्रा पर खतरा भी.

केंद्रीय गृह मंत्रालय के आकलन के मुताबिक ईद के बाद घाटी में हिंसा बढ़ सकती है. यही कारण है कि मंत्रालय ने इस साल यात्रा के लिए सुरक्षा बलों की दोगुनी कम्पनियां तैनात की हैं. पिछले साल 115 कम्पनियां तैनात की गई थीं जबकि इस साल 210 कम्पनियां तैनात की गई हैं.

प्रधानमंत्री कार्यालय के राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह ने एनडीटीवी इंडिया से कहा "अमरनाथ यात्रा सही तरीके से निकले यह जिम्मेदारी सरकार की तो है साथ ही समाज की भी है. यह यात्रा पूरे भारत वर्ष की मिलीजुली परंपरा की प्रतीक है. यात्रा हिंदू करते हैं तो उनकी देखभाल दूसरे धर्म के लोग. जहां तक सुरक्षा का सवाल है, गृह मंत्री ने कई मीटिंग ली हैं और राज्य सरकार को अतिरिक्त बल दे दिए हैं."  

सबसे ज्यादा चिंता यात्रा के रूट को लेकर है. यह अंदेशा भी है कि कहीं पत्थरबाज हंगामा न करें. अभी तक यात्रा के लिए दो लाख से ज्यादा यात्रियों का रजिस्ट्रेशन हो चुका है. मुश्किल उन लोगों को लेकर है जो अचानक बिना रजिस्ट्रेशन के घाटी पहुंच जाते हैं.

उधर अमरनाथ श्राइन बोर्ड के अध्यक्ष राज्यपाल एनएन वोहरा ने शुक्रवार को यात्रा की सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की. राजभवन में राज्य प्रशासन, सेना, अर्ध सैन्यबलों और खुफिया एजेंसियों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए राज्यपाल ने यात्रा की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी एजेंसियों को निरंतर समन्वय बनाए रखने को कहा. खतरे को देखते हुए मंत्रालय ने भी एक डेलीगेशन श्रीनगर भेज दिया है.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement