NDTV Khabar

राफेल डील पर घमासान के बीच HAL के चेयरमैन बोले, हमें पता ही नहीं था कि पिछला सौदा रद्द हो गया है

एचएएल ने कहा है कि उन्हें पता ही नहीं था कि पिछले राफेल सौदे (Rafale Deal) को भाजपा के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार रद्द कर चुकी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राफेल डील पर घमासान के बीच HAL के चेयरमैन बोले, हमें पता ही नहीं था कि पिछला सौदा रद्द हो गया है

HAL के चेयरमैन आर. माधवन ने कहा, 'हमें पिछले सौदे को रद्द किए जाने की जानकारी नहीं थी'.

खास बातें

  1. राफेल डील पर HAL के चेयरमैन का बयान
  2. कहा- हमें पता नहीं था कि पुराना सौदा रद्द हो चुका है
  3. विपक्ष सरकार पर लगाता रहा है HAL को नजरंदाज करने का आरोप
नई दिल्ली :

राफेल डील (Rafale Deal) पर मचे घमासान के बीच अब एक और चौंकाने वाला मामला सामने आया है. एक तरफ विपक्षी दलों का आरोप है कि पीएम मोदी की अगुवाई में हुए नए सौदे में सरकारी कंपनी HAL यानी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड को नजरंदाज किया गया और इसकी जगह अनिल अंबानी की कंपनी को फायदा पहुंचाया गया. जबकि यूपीए के समय होने वाली डील में HAL भी शामिल थी. अब एचएएल ने कहा है कि उन्हें पता ही नहीं था कि पिछले राफेल सौदे को भाजपा के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार रद्द कर चुकी है और नए सिरे से राफेल के लिए दसॉल्ट एविएशन से सौदा किया गया है.  HAL के चेयरमैन आर. माधवन (R Madhavan) ने कहा, 'हमें पिछले सौदे को रद्द किए जाने की जानकारी नहीं थी. हम राफेल पर टिप्पणी नहीं करना चाहते, क्योंकि अब हम इस सौदे का हिस्सा नहीं हैं'.

यह भी पढ़ें : Exclusive: जो HAL राफेल डील से हुई बाहर, अमेरिका, इजरायल, फ्रांस सहित कई देशों की कंपनियां हैं उसकी कस्टमर


आपको बता दें कि कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार ने फ्रांस की लड़ाकू विमान बनाने वाली कंपनी दसॉल्ट एविएशन के साथ 125 राफेल विमानों का सौदा किया था. जिसमें से 108 विमानों का निर्माण लाइसेंस्ड प्रोडक्शन के तहत HAL द्वारा किया जाना था और 18 विमानों का निर्माण फ्रांस में कर उसे भारत लाने की योजना थी. ये विमान भारतीय वायु सेना के लिए खरीदे जाने थे. हालांकि यह सौदा आगे नहीं बढ़ा. इसके बाद नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार ने वर्ष 2015 में फ्रांस की सरकार के साथ दूसरा सौदा कर लिया, जिसमें 125 के बजाय सिर्फ 36 राफेल विमानों की खरीद की गई और इन सबका निर्माण फ्रांस में ही कर उसे भारत लाया जाएगा. इसकी अनुमानित कीमत 54 अरब डॉलर है. 

यह भी पढ़ें : HAL और राफेल बनाने वाली कंपनी के बीच शुरू से थे ‘गंभीर मतभेद', सामने आया नया तथ्य

टिप्पणियां

गौरतलब है कि कांग्रेस ने पिछले दिनों एक वीडियो भी साझा किया था. कांग्रेस द्वारा जारी किए गए इस वीडियो में राफेल बनाने वाली कंपनी डसॉल्ट के सीईओ हिंदुस्तान एयरोनाटिक्स लिमिटेड (HAL) के साथ समझौते की बात कर रहे हैं. ये वीडियो प्रधानमंत्री मोदी के फ्रांस दौरे से से 17 दिन पहले का बताया जा रहा है. इसी दौरे में डील पर दस्तख़त हुए, लेकिन एचएएल को डिल में जगह नहीं मिली. ये वीडियो 25 मार्च 2015 का है. इस कार्यक्रम में राफेल बनाने वाली कंपनी डसॉल्ट के सीईओ एरिक ट्रेपियर ने हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के चेयरमैन की मौजूदगी में उम्मीद जताई थी कि जल्द ही डसॉल्ट और एचएएल के समझौते पर मुहर लग जाएगी.  (इनपुट- IANS से भी)

VIDEO: राफेल डील में HAL की जगह अंबानी की कंपनी कैसे?


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों (Election News in Hindi), LIVE अपडेट तथा इलेक्शन रिजल्ट (Election Results) के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement