यह ख़बर 03 दिसंबर, 2014 को प्रकाशित हुई थी

बाबरी केस से हटे हाशिम अंसारी, कहा, रामलला को 'आजाद' देखना चाहता हूं

फैजाबाद:

राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद ज़मीन विवाद में बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी की तरफ से मुकदमा लड़ने वाले हाशिम अंसारी ने यह कहकर सबको चौंका दिया है कि वह अब इस केस की पैरवी नहीं करेंगे और वह 'रामलला' को आजाद देखना चाहते हैं।

Newsbeep

हाशिम अंसारी ने यह भी साफ किया कि वह 6 दिसंबर को मुस्लिम संगठनों की ओर से आयोजित होने वाले शोक दिवस में शामिल नहीं होंगे। दरअसल, हाशिम अंसारी के मुताबिक, वह बाबरी मस्जिद को लेकर की जा रही सियासत से दुखी हैं। उन्होंने कहा कि 'रामलला' तिरपाल में रह रहे हैं, जबकि उनके नाम पर राजनीति करने वाले महलों में रह रहे हैं।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


हाशिम अंसारी ने उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री मोहम्मद आजम खान पर बरसते हुए कहा कि उन्हें (आजम खान को) यह कहने की क्या जरूरत थी कि जब मंदिर बन गया है, तो मुकदमे की क्या ज़रूरत... हाशिम अंसारी ने कहा, "अब मुकदमे की पैरवी आजम खान ही करें..." हालांकि बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के संयोजक ज़फरयाब जिलानी को भरोसा है कि वह हाशिम अंसारी को मना लेंगे।