हाथरस के आरोपियों के समर्थन में उतरे ठाकुर समाज के लोग, कैमरे पर दी धमकी

वीडियो में देखा जा सकता है कि नारेबाजी करने वाले लोग किस कदर बेखौफ हैं कि वे पुलिसवालों की मौजूदगी के बावजूद चेतावनी देने से बाज नहीं आ रहे हैं.

खास बातें

  • आरोपियों के समर्थन में नारे लगाते हुए वीडियो में आए नजर
  • पुलिस की मौजूदगी का भी इन लोगों पर नहीं दिखा कोई असर
  • आरोपियों के पक्ष में एक‍त्र हुए लोगों पर नहीं हुई कोई कार्रवाई
हाथरस/नई दिल्‍ली :

Hathras Case: यूपी के हाथरस जिले के गांव में एक दलित युवती (Dalit woman)के साथ कथित तौर पर गैंगरेप और बर्बरता के मामले में गिरफ्तार चार युवकों के समर्थन में उच्‍च वर्ग  के लोग खुलकर सामने आ गए है. उच्‍च जाति के इन लोगों को नारेबाजी करते हुए कैमरे में कैद किया गया है. भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) रविवार को युवती के परिजनों से मिलने के लिए गांव पहुंचे थे.  सामने आए वीडियो में देखा जा सकता है कि नारेबाजी करने वाले लोग किस कदर बेखौफ हैं कि वे पुलिसवालों की मौजूदगी के बावजूद धमकी देने से बाज नहीं आ रहे हैं. भीम आर्मी के प्रमुख के गांव के दौरे के बाद पुलिस ने चंद्रशेखर आजाद सहित 400 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है, इन पर क्षेत्र में बड़े पैमाने पर लोगों के एकत्रित होने पर लगे बैन का उल्‍लंघन करने का आरोप है.

'हाथरस में गहरी साजिश' : यूपी पुलिस ने पूरे राज्य में दर्ज किए 19 मामले

हैरानी की बात यह है कि कथित गैंगरेप के आरोपियों के समर्थन में एकत्रित हुए करीब 500 लोगों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है. इन ीलोगों में से कुछ तो खुलेतौर पर वायरल हुए वीडियो में चंद्रशेखर आजाद को धमकी दे रहे हैं.गौरतलब है कि आरोपियों की बर्बरता की शिकार युवती की दिल्‍ली के अस्‍पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई थी. युवती के परिवार के लिए विशेष सुरक्षा की मांग करते हुए आजाद ने कहा, 'हाथरस के आरोपियों के समर्थन में खुलेआम बैठकें हो रही हैं. पीडि़त के परिवार को खतरा है.' मंगलवार को युवती की दिल्‍ली के एक अस्‍पताल में हुई मौत के बाद यह मामला पूरे देश में चर्चा और लोगों के आक्रोश का विषय बन गया है, युवती के परिजनों ने उन्‍हें धमकाए जाने का आरोप लगाया है. गांव के उच्‍च जाति के लोगों ने राष्‍ट्रीय सवर्ण परिषद की बैठक आयोजित करके आरोप लगाया कि युवती और उसका परिवार चार लोगों पर गलत आरोप लगा रहा है और उसके बयान के आधार पर ही इन चारों को गिरफ्तार किया गया है. वे सीबीआई जांच की मांग कर रहे है, जिसकी राज्‍य की योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने अनुशंसा की है.

हाथरस कांड को लेकर दंगे भड़काने के आरोप पर कांग्रेस का पलटवार- 'दलितविरोधी BJP...'

एक वीडियो में एक शख्‍स को यह कहते हुए सुना जा सकता है, 'क्‍या आपको सीबीआई पर विश्‍वास नहीं है? उन्‍हें (चंद्रशेखर को) सीबीआई पर विश्‍वास नहीं है, वह यहां राजनीति करने आए हैं. हमें बस केवल एक बार उनसे मिलने दीजिए, उसके बाद हम सुनिश्चित करेंगे कि उसे विश्‍वास हो जाएगा.' भीम आर्मी के प्रमुख को बाहर लाने के इरादे से यह शख्‍स चिल्‍लाता है, 'ठाकुर बड़े-बड़े आघात झेलने के लिए ही पैदा होते हैं. बाहर आओ, तुम्‍हारे बड़े भाई यहां तुमसे मिलने आए हैं.' इस दौरान पुलिस को इससे बहस करते हुए भी देखा जा सकता है. 20 साल की युवती पर हमले के एक आरोपी का नाम वहीं है जो उस युवती के भाई का है. यह शख्‍स कहता है कि उसके भाई ने युवती की हत्‍या की और दूसरे शख्‍स को फंसा दिया गया. वह चिल्‍लाता है, 'कौन कहता है कि उसके साथ रेप हुआ.'

गौरतलब है कि यूपी पुलिस ने आगरा की लैब की फोरेंसिक रिपोर्ट के आधार पर युवती के उस बयान को खारिज कर दिया है कि उसके साथ रेप हुआ, लेकिन विशेषज्ञ इस रिपोर्ट को लेकर सवाल उठा रहे हैं. उनका कहना है कि यह रिपोर्ट अपराध के 11 दिन बाद कलेक्‍ट किए गए सैंपल पर आधारित है. 

Newsbeep

हाथरस गैंगरेप पर बवाल, SP कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com