NDTV Khabar

‘कायाकल्प’ के तहत प्रदर्शन नहीं करने वाले अस्पतालों का नाम बताएगा स्वास्थ्य मंत्रालय

‘ मेरा अस्पताल ’ पहल का मकसद जन स्वास्थ्य सुविधाओं के अनुभव की गुणवत्ता पर मरीजों का विचार मांगकर उन्हें सशक्त बनाना है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
‘कायाकल्प’ के तहत प्रदर्शन नहीं करने वाले अस्पतालों का नाम बताएगा स्वास्थ्य मंत्रालय

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली:

अस्पतालों पर सख्त रुख अपनाते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने अगले साल से उन अस्पतालों के नाम उजागर करने का फैसला किया है जो मंत्रालय की कायाकल्प पहल के तहत स्वच्छता, कचरा प्रबंधन एवं संक्रमण नियंत्रण सहित विभिन्न मानकों पर खरे नहीं उतरते. इसके साथ ही विभिन्न स्तरों पर अस्पतालों की जवाबदेही सुनिश्चित करने के लिए मंत्रालय उन अस्पतालों के नाम भी उजागर करेगा जिनके बारे में मरीजों ने मंत्रालय की मेरा अस्पताल ऐप्प के जरिए सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं दी. ‘ मेरा अस्पताल ’ पहल का मकसद जन स्वास्थ्य सुविधाओं के अनुभव की गुणवत्ता पर मरीजों का विचार मांगकर उन्हें सशक्त बनाना है. अगस्त 2016 में इस पहल की शुरुआत हुई थी. इसके तहत अस्पतालों द्वारा दी जाने वाली सेवाओं की गुणवत्ता के आकलन का अंतिम पैमाना मरीज की संतुष्टि है.

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार के बजट को लेकर बीजेपी के बागी नेता यशवंत सिन्हा ने कही यह बड़ी बात


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा ने गुरुवार इस पहल के तहत पुरस्कार प्रदान करते हुए कहा कि अगले साल से हम ना केवल अच्छा प्रदर्शन करने वाले उन अस्पतालों को पुरस्कृत करेंगे, बल्कि उन अस्पतालों का भी नाम बतायेंगे जो स्वच्छता, कचरा प्रबंधन एवं संक्रमण नियंत्रण सहित विभिन्न मानकों पर खरे नहीं उतरते. नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा भारत की जनता से महात्मा गांधी के ‘स्वच्छ भारत’ के सपने को साकार करने के आह्वान के बाद स्वास्थ्य मंत्रालय ने कायाकल्प कार्यक्रम शुरू किया था.

टिप्पणियां

यह भी पढ़ें: भारत, इटली ने स्वास्थ्य क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने के लिए किया करार

इस बीच एम्स मॉडल को दोहराने की मुहिम के तहत मंत्रालय आदान प्रदान कार्यक्रम शुरू करेगा. इसके तहत राष्ट्रीय राजधानी स्थित एम्स और पीजीआई चंडीगढ़ के डॉक्टर अन्य एम्स और केंद्र सरकार के अस्पतालों में जाकर अपने अनुभवों को साझा करेंगे और उनके प्रदर्शन मानकों की सुधार में मदद करेंगे. इसी तरह से अन्य अस्पतालों के डॉक्टर भी प्रतिष्ठित संस्थान में आकर प्रशिक्षण हासिल करेंगे. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement