हाईकोर्ट ने यूपी में गौ हत्या निरोधक कानून के दुरुपयोग पर जताई चिंता, कही ये बड़ी बात...

आरोपी के खिलाफ शामली के भवन थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई थी. लेकिन आरोपी मौके से गिरफ्तार नहीं हुआ था. आरोपी 5 अगस्त 2020 से जेल में बंद है.

हाईकोर्ट ने यूपी में गौ हत्या निरोधक कानून के दुरुपयोग पर जताई चिंता, कही ये बड़ी बात...

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रयागराज:

उत्तर प्रदेश में गौ हत्या कानून के लगातार दुरुपयोग को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने चिंता जताई है. इसके साथ ही कोर्ट ने गौ हत्या और गौ मांस की ब्रिकी के आरोपी की जमानत को मंजूरी दे दी. कोर्ट ने आरोपी रहमू उर्फ रहमुद्दीन को सशर्त जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया. जस्टिस सिद्धार्थ की एकल पीठ ने यह आदेश दिया.

कोर्ट ने कहा जब भी कोई मांस पकड़ा जाता है, इसे गौ मांस के रूप में दिखाया जाता है. कई बार इसकी जांच भी फॉरेंसिक लैब में नहीं कराई जाती है.

यह भी पढ़ें- पूरे देश में गोहत्या पर रोक लगाने वाला कानून होना चाहिए : RSS प्रमुख मोहन भागवत

आरोपी के खिलाफ शामली के भवन थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई थी. लेकिन आरोपी मौके से गिरफ्तार नहीं हुआ था. आरोपी 5 अगस्त 2020 से जेल में बंद है.

यह भी पढ़ें- गाय के नाम पर भीड़ द्वारा हत्या को लेकर पीडीपी विधायक ने दिया यह बयान...

इसके साथ ही कोर्ट ने राज्य में छोड़े गए मवेशियों और आवारा गायों को लेकर महत्वपूर्ण टिप्पणी की, कोर्ट ने कहा, "किसी को नहीं पता होता गाय पकड़े जाने के बाद कहां जाती हैं. दूध न देने वाली गायों का परित्याग समाज को बड़े पैमाने पर प्रभावित करता है."

Newsbeep

बुलंदशहर हिंसा के आरोपियों का भव्य स्वागत, क्या ये इंस्पेक्टर सुबोध का अपमान नहीं?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com