NDTV Khabar

हाई-प्रोफाइल हनी-ट्रैप रैकेट : मास्टरमाइंड की निगाहें टिकी थीं दिल्ली पर, नेताओं-अफसरों से अंतरंगता

राजधानी से अपने एनजीओ या अपने बड़े कॉर्पोरेट ग्राहकों के लिए ठेके हासिल करना चाहता था रैकेट का मास्टरमाइंड

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
हाई-प्रोफाइल हनी-ट्रैप रैकेट : मास्टरमाइंड की निगाहें टिकी थीं दिल्ली पर, नेताओं-अफसरों से अंतरंगता

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. एनआरआई को केंद्र से एक्सपोर्ट-इम्पोर्ट का कॉन्ट्रेक्ट दिलाने की कोशिश की
  2. केंद्र के एक प्रमुख पब्लिक सेक्टर में सप्लाई के लिए ठेका मिला था
  3. प्रभावशाली लोगों को उपकृत करते थे रैकेट के संचालक
भोपाल:

पिछले हफ्ते हाई-प्रोफाइल हनी-ट्रैप रैकेट (High-profile honey-trap racket) का पर्दाफाश होने के बाद गिरफ्तार पांच महिलाओं और उनके कार ड्राइवर ने खुलासा किया है कि रैकेट के मास्टरमाइंड की निगाहें दिल्ली पर टिकी थीं. वह केंद्र सरकार से अपने  एनजीओ या अपने बड़े कॉर्पोरेट ग्राहकों, जिनमें से कुछ भारत के बाहर बसे हुए भी हो सकते हैं के लिए ठेके हासिल करना चाहता था. रैकेट का मास्टरमाइंड छत्तीसगढ़ में एक मेगा प्रोजेक्ट पर नज़र गड़ाए हुए था. वह छत्तीसगढ़ में नेताओं और नौकरशाहों से अपने संपर्कों का फायदा अपने बड़े कॉर्पोरेट ग्राहकों में से एक को दिलाना चाहता था.

एक सूत्र ने कहा कि "विशेष रूप से छत्तीसगढ़ में उनका कोई आधार नहीं था. राज्य के दो से तीन पूर्व मंत्रियों और आईएफएस और आईएएस अधिकारियों के साथ जरूर उनके निकट संबंध थे."

एनडीटीवी को जांच से पता चला है कि रैकेट के मास्टरमाइंड ने करीब एक साल पहले विदेशों में व्यापार करने वाले एक एनआरआई व्यवसायी को केंद्र सरकार से एक महत्वपूर्ण एक्सपोर्ट-इम्पोर्ट संबंधी कॉन्ट्रेक्ट दिलाने की पुरजोर कोशिश की थी. हालांकि दिल्ली में अधिकारियों और राजनीतिक संपर्कों के जरिए किए गए उसके प्रयास सफल नहीं हो सके.


हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट मामला : जांच के दायरे में साइबर सेल के सीनियर आईपीएस!

सेक्स रैकेट के मास्टरमाइंडों में से एक अहम व्यक्ति जो कि कथित तौर पर भोपाल के करीब एक फैक्ट्री चलाता है, ने अपने हाई-प्रोफाइल संपर्कों का उपयोग करते हुए केंद्र के एक प्रमुख पब्लिक सेक्टर में सप्लाई के लिए एक बार अनुबंध प्राप्त करने में कामयाबी हासिल की थी.

Madhya Pradesh News: Honey-Trap में 1,000 से ज्यादा VIDEO क्लिप खंगाल रही पुलिस, दूर तक जा सकती है आंच

इस रैकेट ने दो मोर्चों पर काम किया, इसके कर्ताधर्ताओं ने पहले प्रभावशाली नेताओं, नौकरशाहों और वरिष्ठ पुलिस अफसरों से अंतरंग संबंध विकसित किए. इसके बाद, रैकेट संचालकों ने इन विशेष रूप से निर्णय लेने का अधिकार रखने वाले प्रभावशाली लोगों को उपकृत किया. उनसे एनजीओ के लिए कौशल विकास, प्रशिक्षण और प्रचार से संबंधित काम के लिए कार्य ऑर्डर हासिल किए गए. इसके अलावा, उन्होंने अपने कॉर्पोरेट ग्राहकों को सरकारी कॉन्ट्रेक्ट दिलाने के लिए इन प्रभावी लोगों का उपयोग किया, जिसके लिए उन्हें वास्तव में आकर्षक कमीशन मिला.

दिल्ली : स्पा सेंटर में चल रहे ऑनलाइन सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, अश्लील मेन्यू कार्ड मिले

VIDEO : एक हजार से ज्यादा वीडियो क्लिप

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement