लोकसभा में बोले गृहमंत्री अमित शाह, आतंकवाद से निपटने के लिए कठोर कानून जरूरी

अनलॉफुल एक्टिविटीज प्रिवेंशन एक्ट (UAPA) में संशोधन से जुड़ा बिल आज लोकसभा में पास हो गया. बिल पर वोटिंग से पहले कांग्रेस ने सदन से वॉकआउट किया.

खास बातें

  • UAPA संशोधन बिल लोकसभा में पास
  • UAPA: अनलॉफुल एक्टिविटीज प्रिवेंशन एक्ट
  • वोटिंग से पहले कांग्रेस का वॉकआउट
नई दिल्ली:

अनलॉफुल एक्टिविटीज प्रिवेंशन एक्ट (UAPA) में संशोधन से जुड़ा बिल आज लोकसभा में पास हो गया. बिल पर वोटिंग से पहले कांग्रेस ने सदन से वॉकआउट किया. चर्चा के दौरान गृह मंत्री अमित शाह ने विपक्ष पर जोरदार हमला किया. चर्चा का जवाब देते हुए गृह मंत्री शाह ने कहा कि आज समय की मांग है कि आतंकवाद के खिलाफ संख्त कानून बनाया जाए. उन्होंने यह भी कहा कि कानून के दिल में अर्बन नक्सलियों के लिए कोई दया नहीं है. अमित शाह ने कहा कि आंतकी गतिविधि में शामिल किसी संगठन को आतंकवादी संगठन घोषित करने का प्रावधान तो NIA ऐक्ट में है, लेकिन आंतकी वारदात को अंजाम देने वाले या इसकी साजिश रचने वाले लोगों को आतंकवादी घोषित करने का अधिकार NIA के पास नहीं था. गृहमंत्री ने इसका उदाहरण देते हुए कहा कि NIA ने यासीन भटकल के संगठन इंडियन मुजाहिद्दीन को आतंकवादी संगठन घोषित किया था, लेकिन उसे आतंकवादी घोषित नहीं किया. इसका फायदा उठाते हुए उसने 12 आतंकी घटनाओं को अंजाम दिया था. अर्बन नक्सलियों को लेकर उन्होंने कहा कि सामाजिक जीवन में देश के लिए काम करने वाले बहुत लोग हैं, लेकिन अर्बन माओइज्म के लिए जो काम करते हैं उनके लिए हमारे दिल में बिल्कुल भी संवेदना नहीं है. 

जब अटल जी के वजह से UP में मुलायम सिंह यादव की चली थी सबसे लंबी अवधि की सरकार!

मध्य प्रदेश विधानसभा में BJP नेता गोपाल भार्गव बोले- हमारे नंबर-1 और नंबर-2 कह देंगे तो एक दिन भी नहीं चलेगी ये सरकार

अमित शाह ने कहा कि अगर व्यक्ति के मन में आतंकवाद है तो संगठन को बैन करने से कुछ नहीं होगा, तब वह नया संगठन बना लेगा. इस वजह से व्यक्ति को भी आतंकी घोषित करने का प्रावधान लाना जरूरी है. उन्होंने इस दौरान अमेरिका, यूएन, चीन, इजरायल और पाकिस्तान जैसे देशों का भी उदाहरण दिया.

लिंचिंग के खिलाफ श्याम बेनेगल, अनुराग कश्यप, रामचंद्र गुहा समेत 49 हस्तियों ने PM को लिखा खत

लोकसभा में शाह ने कहा कि यह कानून इंदिरा गांधी की सरकार लेकर आई थी, हम तो बस इसमें छोटा-सा संशोधन कर रहे हैं. लेकिन विपक्ष के जो नेता इसका विरोध कर रहे हैं, उन्हें याद रखना चाहिए कि जब उन्होंने इस बिल में संशोधन किया था वो भी सही था और आज जो हम कर रहे हैं वो भी सही है. 

Newsbeep

कमलनाथ पर लगे कांग्रेस कार्यकर्ता की हत्या के आरोपियों को बचाने के आरोप, मृतक के बेटे ने दिया बड़ा बयान

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


कानून के दुरुपयोग के सवाल पर गृह मंत्री ने कहा कि इस बिल में प्रावधान हैं कि किसी व्यक्ति को कब आतंकी घोषित किया जाएगा. उन्होंने कहा कि आतंकवाद बंदूक से नहीं बल्कि प्रचार और उन्माद से पैदा होता है. ऐसा करने वालों को आतंकी घोषित करने में किसी को आपत्ति क्यों हो रही है. अमित शाह बोले कि विपक्ष कह रहा है कि सरकार इसके जरिए किसी भी कंप्यूटर में घुस जाएगी, अगर आतंकवाद से जुड़ा काम करोगे तो पुलिस आपके कंप्यूटर में जरूर घुसेगी.