उम्‍मीद है PM मोदी के आर्थिक उपायों से अगले क्‍वार्टर में सकारात्‍मक रहेगी GDP : अमित शाह

लॉकडाउन की वजह से चालू वित्त वर्ष ही पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में सकल घरेलू उत्पाद में 23.9 प्रतिशत की गिरावट आई थी. दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में यह गिरावट कम होकर 7.5 प्रतिशत रह गई है.

उम्‍मीद है PM मोदी के आर्थिक उपायों से अगले क्‍वार्टर में सकारात्‍मक रहेगी GDP : अमित शाह

अमित शाह ने कहा, अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए पीएम काफी मेहनत कर रहे हैं

खास बातें

  • कहा, अर्थव्‍यवस्‍था को उबारने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे पीएम
  • इसके लिए आर्थिक पैकेज की भी घोषणा की गई है
  • लॉकडाउन के चहते पहले दो क्‍वार्टर में इकोनॉमी में गिरावट आई थी
नई दिल्ली:

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah)ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने हाल के समय में अर्थव्यवस्था (Economy) को उबारने के लिए कड़ी मेहनत की है और इसके कारण उम्‍मीद है कि दो क्‍वार्टर में 'झटका' लेने के बाद अगली तिमाही में GDP (सकल घरेलू उत्‍पाद) की वृद्धि दर सकारात्‍मक रहेगी. गौरतलब है कि चालू वित्त वर्ष की पहली और दूसरी तिमाही में अर्थव्यवस्था में गिरावट आई है. केंद्रीय गृह मंत्री शाह ने अहमदाबाद में वर्चुअल तरीके से सड़क के ऊपर दो पुलों का उद्घाटन करने के बाद यह बात कही. उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए काफी मेहनत कर रहे हैं. कोरोना वायरस महामारी की वजह से पैदा हुए संकट से निपटने के लिए उन्होंने पैकेज की भी घोषणा की है. 

किसान आंदोलन : दिल्ली ब्लॉक करने की किसानों की धमकी के बाद अमित शाह की बैठक

शाह ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्रभाई ने कोविड-19 महामारी (COVID-19 pandemic) के दौरान के समय का इस्तेमाल नीति तैयार करने के लिए किया है. उन्होंने इसके अर्थव्यवस्था पर दीर्घावधि के प्रभाव का विशेष ध्यान रखा है.''गृह मंत्री ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री ने एक सेकंड गंवाए बिना कृषि क्षेत्र, बिजली, औद्योगिक नीति आदि के लिए सुधारों पर काम किया है ताकि विकास की रफ्तार को कायम रखा जा सके.''

शाह ने कहा कि मोदी ने गरीब लोगों के कल्याण के लिए 20 लाख करोड़ रुपये का पैकेज भी दिया है.गृह मंत्री ने कहा, ‘‘ताजा जीडीपी आंकड़ों को देखें, तो हम सिर्फ छह प्रतिशत पीछे हैं. मुझे उम्मीद है कि अगली तिमाही में जीडीपी की वृद्धि दर सकारात्मक रहेगी.''कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन की वजह से चालू वित्त वर्ष ही पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में सकल घरेलू उत्पाद में 23.9 प्रतिशत की गिरावट आई थी. दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में यह गिरावट कम होकर 7.5 प्रतिशत रह गई है. (भाषा से भी इनपुट)


लॉकडाउन का बुरा असर अब तक कायम

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com