NDTV Khabar

हॉकी अब तक आधिकारिक रूप से राष्ट्रीय खेल नहीं, नवीन पटनायक ने पीएम को लिखी चिट्ठी

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हॉकी को आधिकारिक रूप से भारत का राष्ट्रीय खेल घोषित करने का आग्रह किया

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
हॉकी अब तक आधिकारिक रूप से राष्ट्रीय खेल नहीं, नवीन पटनायक ने पीएम को लिखी चिट्ठी

ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर हॉकी को राष्ट्रीय खेल के रूप में आधिकारिक रूप से मान्यता देने की मांग की है.

खास बातें

  1. कहा, यह जानकर चकित कि हॉकी राष्ट्रीय खेल के रूप में अधिसूचित नहीं
  2. हॉकी ने देश को आठ ओलंपिक स्वर्ण पदक दिए
  3. ओडिशा में नवंबर 2018 में होगा हॉकी विश्व कप का आयोजन
नई दिल्ली: ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने ने हॉकी को आधिकारिक रूप से राष्ट्रीय खेल घोषित करने की मांग की है. उन्होंने इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है. उन्होंने हॉकी को राष्ट्रीय खेल के रूप में नोटिफाइड करने का अनुरोध किया है.  

सीएम नवीन पटनायक ने पीएम मोदी को लिखे पत्र में कहा है कि "पुरुषों का अगला हॉकी विश्व कप नवंबर में ओडिशा में आयोजित किया जाएगा. मैं यह जानकर चौंक गया और आश्चर्यचकित हुआ कि राष्ट्रीय खेल के रूप में देश में लोकप्रिय हॉकी को हमारे राष्ट्रीय खेल के रूप में कभी अधिसूचित नहीं किया गया."
  नवीन पटनायक ने पीएम मोदी से कहा है कि ‘‘मुझे पूरा भरोसा है कि आप हमारे देश के करोड़ों प्रशंसकों से सहमत होंगे कि हॉकी हमारे राष्ट्रीय खेल के रूप में आधिकारिक रूप से मान्यता का हकदार है. यह हमारे हॉकी के उन महान खिलाड़ियों के लिए श्रद्धांजलि होगी जिन्होंने हमारे देश को गौरवान्वित किया.’’ हॉकी ने देश को आठ ओलंपिक स्वर्ण पदक दिए हैं. 

नवीन पटनायक ने हॉकी को लेकर बुधवार को कई ट्वीट किए. एक ट्वीट में उन्होंने कहा कि हॉकी विश्व कप 2018 (एचडब्ल्यूसी2018) के लिए तैयारी की समीक्षा करते समय, मुझे यह जानकर आश्चर्य हुआ कि जिस खेल को हमने हमेशा अपने राष्ट्रीय खेल के रूप में प्यार किया है, उसे आधिकारिक तौर पर अधिसूचित नहीं किया गया है.
  हॉकी ने भारत को गर्व करने के कई मौके दिए हैं.  सन 1948 में नवजात राष्ट्र भारत ने अपना पहला ओलंपिक स्वर्ण पदक जीता था और राष्ट्रीय हॉकी टीम ने ग्रेट ब्रिटेन को हराया था. यह शायद प्राकृतिक न्याय था कि युवा और महत्वाकांक्षी भारत ने हमारे ऊपर राज करते रहने वाले (ब्रिटेन) के खिलाफ मैच जीता था.
  नवीन ने कहा ह कि हॉकी भारतीय मानस का हिस्सा है. ग्रामीण क्षेत्र हों या शहरी, यह सभी जगह बेहद लोकप्रिय है. ओडिशा और झारखंड के जनजातीय क्षेत्रों में हॉकी जीवन का एक तरीका है. जब भी हमारी टीम जीतती है तो करोड़ों भारतीय खुश होते हैं. 
  गौरतलब है कि भारत में हॉकी को अनधिकृत रूप से राष्ट्रीय खेल के रूप में ही पहचाना जाता रहा है. ओडिशा नवंबर में हॉकी विश्व कप की मेजबानी करेगा.

टिप्पणियां
VIDEO : हॉकी के नए कोच ने खिलाड़ियों के बार में यह कहा 

ओडिशा में होने वाले हॉकी विश्व कप की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं.  


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement