NDTV Khabar

उपराष्ट्रपति चुनाव : आंकड़ों में कितनी मजबूत है वेंकैया नायडू की दावेदारी

उपराष्ट्रपति चुनाव में लोकसभा के 545 और राज्यसभा के 245 सांसद वोट डालते हैं. इसमें मनोनीत सांसद भी वोट डाल सकते हैं. अभी लोकसभा और राज्यसभा में दो-दो सीटें खाली हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
उपराष्ट्रपति चुनाव : आंकड़ों में कितनी मजबूत है वेंकैया नायडू की दावेदारी

वेंकैया नायडू उपराष्ट्रपति पद के चुनाव में एनडीए के उम्मीदवार बनाए गए हैं (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: एम. वेंकैया नायडू को एनडीए की ओर से उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित किया गया है. वहीं कांग्रेस समेत 18 विपक्षी दलों के गठबंधन ने इस पद के लिए गोपालकृष्ण गांधी को अपना उम्मीदवार घोषित किया है. उपराष्ट्रपति पद के लिए मतदान 5 अगस्त को होगा. नामांकन पत्र भरने की अंतिम तिथि 18 जुलाई है.

उपराष्ट्रपति चुनाव में लोकसभा के 545 और राज्यसभा के 245 सांसद वोट डालते हैं. इसमें मनोनीत सांसद भी वोट डाल सकते हैं. अभी लोकसभा और राज्यसभा में दो-दो सीटें खाली हैं यानी स्पीकर को मिला कर निर्वाचन मंडल 786 सांसदों का बनता है.

यह भी पढ़ें
इस वजह से BJP ने बनाया वेंकैया नायडू को उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार
गोपाल कृष्‍ण गांधी का गुजरात से ताल्‍लुक, महात्‍मा गांधी के पौत्र पर विपक्षी सहमति की वजहें!
शिवसेना ने कांग्रेस से पूछा - याकूब मेमन की फांसी का विरोध करने वाले गोपालकृष्ण गांधी को उम्मीदवार क्यों बनाया?
राष्ट्रपति या उपराष्ट्रपति नहीं बनना चाहता, 'उषा-पति' बनकर ही खुश हूं : वेंकैया नायडू

अभी संख्या बल में एनडीए काफी मजबूत है. एनडीए के पास करीब 425 सांसद हैं, जबकि उसे एआईएडीएमके के 50, बीजेडी के 27, टीआरएस के 14, वाईएसआर कांग्रेस के 8, पीएमके और एआईएनआर कांग्रेस के एक-एक सांसद के समर्थन का भरोसा है. इस तरह एनडीए का आंकड़ा 526 तक पहुंच जाता है, जो जीत के लिए जरूरी वोटों से काफी ज्यादा है.

वीडियो

वहीं यूपीए की हालत कमजोर है. 18 विपक्षी दलों के गठबंधन के पास 252 सांसद हैं. यूपीए को पांच मनोनीत और तीन निर्दलियों का समर्थन भी मिल सकता है. ऐसे में ये आंकड़ा 261 तक ही पहुंच पाता है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement