NDTV Khabar

LPG सिलेंडर फटने से महिला गंभीर रूप से घायल, दुर्घटना रोकने के लिए इन 8 बातों का हमेशा रखें ध्यान

भारतीय पेट्रोलियम कॉरपोरेशन की ओर से रसोई गैस उपयोगकर्ताओं के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं जिनको जानना बेहद जरूरी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
LPG सिलेंडर फटने से महिला गंभीर रूप से घायल, दुर्घटना रोकने के लिए इन 8 बातों का हमेशा रखें ध्यान
नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर के एक गांव में एक गैस सिलेंडर फटने से एक महिला गंभीर रूप से घायल हो गई. क्षेत्राधिकारी राम मोहन शर्मा ने बताया कि खुशीनगर गांव में शशिकला अपने घर में खाना बना रही थी, तभी यह हादसा हुआ. उन्होंने बताया कि गैस सिलेंडर फटने से लगी आग में एक भैंस जल कर मर गई. इसके अलावा 45 हजार रुपए के नोट जल कर खाक हो गए. गौरतलब है कि गैस सिलेंडर फटने की घटनाएं पहले भी हो चुकी हैं. इसके पहले यहां सब्जी मंडी में मंगलवार को गैस सिलेंडर में रिसाव होने से आग लग गई जिससे चाय की दुकान चलाने वाले पिता-पुत्र झुलस गए. पुलिस प्रवक्ता पवन कपूर ने बताया कि ओम नगर निवासी रामभगत और उसका बेटा संदीप सब्जी मंडी में चाय की दुकान चलाते हैं। दोपहर को गैस सिलेंडर में रिसाव होने से आग लग गई जिससे पिता-पुत्र झुलस गये. उन्होंने बताया कि दोनों को सामान्य अस्पताल ले जाया गया जहां चिकित्सकों ने उनकी गंभीर हालत देखकर उन्हें पीजीआई रोहतक के लिए रेफर कर दिया. इनमें ज्यादातर घटनाएं लापरवाही की वजह से होती हैं. किसी भी मौसम में एलपीजी सिलेंडर का इस्तेमाल करते समय अगर कुछ बातों का ध्यान दिया जाए तो ऐसी दुर्घटनाओं से बचा जा सकता है. भारतीय पेट्रोलियम कॉरपोरेशन की ओर से रसोई गैस उपयोगकर्ताओं के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं जिनको जानना बेहद जरूरी है.
LPG सिलेंडर का इस्तेमाल करने में इन 8 बातों का जरूर रखें ध्यान
  1. गैस नली के साथ रबर ट्यूब बदलें. सुरक्षा नली अग्निरोधी हैं, इसलिए ज्यादा सुरक्षित है और लेकिन इसका इस्तेमाल 5 साल तक ही करें. खाना पकाते समय सूती कपड़ें पहने.
  2. लीक की जांच करने के लिए जलती माचिस की तीली का प्रयोग न करें. एक आसान तरीका है, कि कुछ सेकंड के लिए सिलेंडर वाल्व पर अंगूठा रखे, रिसाव के मामले में आप रिसने वाली गैस का दबाव महसूस कर सकते हैं. साबुन के घोल को डाट / लीक के लिये केवल जाँच के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है.  
  3. पहले माचिस की तीली जलाए, फिर बर्नर नॉब को खोलें.
  4. गैस लीक होने की स्थिति में रेग्युलेटर और बर्नर नॉब्स को बंद करें. सभी दरवाजे और खिड़कियां खोल दें.  बिजली के स्विच ऑन ना करें. तुरंत डिस्ट्रीब्यूटर से संपर्क करें. 
  5. सिलेंडर से जुड़ी नायलॉन धागे के साथ सुरक्षा कैप को संभाल कर रखें. यदि कोई हो रिसाव हैं तो रोकने के लिए वाल्व पर कैप लगा दें
  6. कभी भी बर्तन को,  जलते बर्नर पर ना छोड़ें. उबाल आने पर लौ बुझ सकती हैं और गैस रिसाव का कारण बन सकता है.  गैस स्टोव हमेशा सिलेंडर से ऊपर प्लेटफॉर्म पर रखें.
  7. रात को सोते समय रेग्यूलेटर जरूर बंद कर दें.  बच्चों को एलपीजी लगी जगह पर खेलने की अनुमति न दें.  एलपीजी. लगाने के बाद से हर दो साल में जांच करवाएं.
  8. सिलेंडर की एक्सपाइरी डेट भी जरूर चेक करें.  

 




Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
टिप्पणियां

Advertisement