NDTV Khabar

मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसा : स्थानीय लोगों ने मानवीय चूक को घटना के लिए जिम्मेदार ठहराया

हादसे में जिन लोगों के घर को नुकसान पहुंचा है उनमें से एक जगत राम ने NDTV से बातचीत के दौरान बताया की रेल ट्रैक पर पिछले 2 दिनों से काम चल रहा था. उत्कल एक्सप्रेस जब यहां से गुजर रही थी तब उसकी स्पीड कम नहीं थी.

8.2K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसा : स्थानीय लोगों ने मानवीय चूक को घटना के लिए जिम्मेदार ठहराया

हादसे में 23 लोगों की हो गई है मौत.

खास बातें

  1. स्थानीय लोगों ने NDTV को बताया कम नहीं हुई ट्रेन की स्पीड
  2. पिछले 2 दिनों से इस ट्रैक पर चल रहा था काम
  3. उत्कल से पहले गुजरी दो ट्रेनों की स्पीड काफी कम थी
नई दिल्ली: हरिद्वार से पुरी के बीच चलने वाली कलिंग उत्‍कल एक्‍सप्रेस शनिवार शाम दुर्घटनाग्रस्‍त हो गई. उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के खतौली के पास हुए इस हादसे में ट्रेन की 14 बोगियां पटरी से उतर गई जिसके कारण 23 यात्रियों की मौत हो गई जबकि 97 अन्‍य घायल हो गए. हादसे के कारण का अभी तक पता नहीं चल सका है. हालांकि स्थानीय लोगों की माने तो यह हादसा मानवीय चूक की वजह से हुआ है. 

यह भी पढ़ें : मोदी सरकार भी न रोक पाई रेल हादसों को, हो चुकीं है अब तक ये 8 दुर्घटनाएं

कम नहीं हुई ट्रेन की स्पीड
हादसे में जिन लोगों के घर को नुकसान पहुंचा है उनमें से एक जगत राम ने NDTV से बातचीत के दौरान बताया की रेल ट्रैक पर पिछले 2 दिनों से काम चल रहा था. स्थानीय लोगों को इस बात की आशंका भी है कि उत्कल एक्सप्रेस के ड्राइवर को इस बारे में जानकारी नहीं दी गई थी. जगत राम ने बताया कि उत्कल एक्सप्रेस से कुछ ही देर पहले 2 ट्रेनें इस ट्रैक से होकर गुजरी थी. जिसकी स्पीड काफी कम थी. उन्होंने बताया कि जब उत्कल एक्सप्रेस यहां से गुजरी तब ट्रेन की स्पीड कम नहीं हुई. हालांकि रेलवे की तरफ से अब तक इस बारे में कोई बयान जारी नहीं किया गया है कि हादसा किस वजय से हुआ. 

यह भी पढ़ें : मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसा : सोनिया, राहुल और ममता ने दुख जताया

रेल मंत्री ने दिए जांच के आदेश
रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने ट्रेन हादसे की जांच के आदेश दिए हैं. उन्होंने कहा कि वह खुद हालात पर नजर रखे हुए हैं और किसी तरह की चूक का पता चलने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी. प्रभु ने हादसे में जान गंवाने वालों के परिजन को 3.5 लाख रुपये का मुआवजा और गंभीर रूप से घायलों को 50,000 रुपये, जबकि मामूली तौर पर घायलों को 25,000 रुपये की सहायता राशि देने का ऐलान किया.

यह भी पढ़ें : मुजफ्फरनगर हादसा: रेलवे, ओडिशा सरकार और यूपी सरकार ने किया मुआवजे का ऐलान 

राहत और बचाव कार्य जारी
कई ट्वीट कर प्रभु ने यह भी कहा कि रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा घटनास्थल के लिए रवाना हुए हैं और रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष एवं सदस्य (यातायात) से कहा गया है कि वे राहत और बचाव अभियान की निगरानी करें. राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की दो टीमों और दो खोजी कुत्तों को घटनास्थल के लिए रवाना किया गया है. मेडिकल वैन भी घटनास्थल के लिए भेजे गए हैं. एनडीआरएफ की एक टीम में 45 जवान होते हैं.

VIDEO: कलिंग उत्कल एक्सप्रेस पटरी से उतरी



इमरजेंसी नंबर जारी
मुजफ्फरनगर के अधिकारियों ने प्रभावित परिवारों की मदद के लिए एक कंट्रोल रूम बनाया है. इस कंट्रोल रूम के फोन नंबर हैं - 0131-2436918, 0131-2436103 और 0131-2436564. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस हादसे पर गहरा दुख व्यक्त किया और कहा कि रेल मंत्रालय एवं राज्य सरकार प्रभावित लोगों को हरसंभव मदद मुहैया कराने के लिए हरसंभव कदम उठा रही है. उन्होंने कहा कि रेल मंत्रालय की ओर से हालात की करीबी तौर पर निगरानी की जा रही है.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement