NDTV Khabar

तेलंगाना के हैदराबाद में महिला डॉक्टर के साथ रेप और मर्डर करने वाले सभी 4 आरोपियों का एनकाउंटर

तेलंगाना में रेप कांड के चारों आरोपियों का एनकाउंटर कर दिया गया है. यह खबर न्यूज एजेंसी ANI के हवाले से है. इन चारों आरोपियों पर महिला वेटरनरी डॉक्टर के साथ रेप का आरोप था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. हैदराबाद रेप के सभी चारों आरोपियों का एनकाउंटर
  2. पुलिस से हथियार छीनकर भाग रहा था एक आरोपी
  3. सभी आरोपियों की मौत
नई दिल्ली:

तेलंगाना में रेप कांड के चारों आरोपियों का एनकाउंटर कर दिया गया है. इन चारों पर महिला वेटरनरी डॉक्टर के साथ रेप और मर्डर का आरोप था. पुलिस का दावा है कि ये सभी आरोपी भागने की कोशिश कर रहे थे और इस दौरान पुलिस की ओर से हुई फायरिंग में सभी आरोपी मारे गए हैं. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि यह पूरी आज तड़के 3 बजे से 6 बजे के बीच हुआ है. मिली जानकारी के मुताबिक अदालत में चार्जशीट दाखिल करने के बाद पुलिस इन चारों आरोपियों को घटनास्थल पर ले गई थी ताकि 'सीन ऑफ क्राइम' (रिक्रिएशन) की पड़ताल की जा सके. लेकिन उनमें से एक आरोपी ने पुलिसकर्मी का हथियार छीन कर भागने की कोशिश करने लगा. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि अगर यह आरोपी भाग जाते तो बड़ा हंगामा खड़ा हो जाता इसलिए पुलिस के पास दूसरा कोई रास्ता नहीं था और जवाबी फायरिंग में चारो आरोपी मारे गए. माना जा रहा है कि इस मामले की पूरी जानकारी पुलिस कमिश्नर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सकते हैं. 

बिहार के बक्सर में भी हैदराबाद जैसा दिल दहला देने वाला मामला, युवती को रेप के बाद मारी गोली, फिर जला दिया
 


टिप्पणियां

गौरतलब है कि 28 नवंबर को इन चार आरोपियों की जिनकी उम्र 20 से 26 साल के बीच थी. महिला डॉक्टर को टोल बूथ पर स्कूटी पार्क करते देखा था. आरोप है कि इन लोगों ने जानबूझकर उसकी स्कूटी पंक्चर की थी. इसके बाद मदद करने के बहाने उसका एक सूनसान जगह पर लेकर गैंगरेप किया और बाद में पेट्रोल डालकर आग के हवाले कर दिया. पुलिस के मुताबिक घटना से पहले इन लोगों ने शराब भी पी रखी थी. रेप और मर्डर की  इस घटना के बाद पूरे देश में गुस्सा था और इस मामले की सुनवाई के लिए फॉस्ट ट्रैक कोर्ट का गठन किया गया था. 

वहीं इस एनकाउंटर के बाद लोगों की अलग-अलग प्रतिक्रिया देखने की मिल रही है. एनडीटीवी से बात करते हुए एक्टिविस्ट और वकील वृंदा ग्रोवर ने सवाल उठाया है. उन्होंने कहा कि वह सभी के लिए न्याय चाहती हैं लेकिन इस तरह नहीं होना चाहिए था. वहीं इसी मुद्दे पर अनशन पर बैठीं दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा कि जो हुआ अच्छा है कम से कम वह सरकारी मेहमान बनकर नहीं रहेंगे जैसा कि दिल्ली के निर्भया केस में हुआ. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... सेक्स कम करने से 35 की उम्र के बाद महिलाओं में आती है ये परेशानी

Advertisement