NDTV Khabar

स्कूल के विज्ञापन वाले होर्डिंग में नर्सरी, LKG, UKG के टॉपर बच्चों की तस्वीर, ट्विटर यूजर्स हुए हैरान

हैदराबाद में एक स्कूल ने कुछ ऐसा विज्ञापन सड़क पर लगाया, जिसके बाद होर्डिंग सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो गया. होर्डिंग में सबसे कम उम्र तीन साल के छोटे बच्चे को क्लास का टॉपर दिखलाया गया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
स्कूल के विज्ञापन वाले होर्डिंग में नर्सरी, LKG, UKG के टॉपर बच्चों की तस्वीर, ट्विटर यूजर्स हुए हैरान

हैदराबाद स्थित प्रिया भारती हाई स्कूल मैनेजमेंट द्वारा यह होर्डिंग लगवाया गया

नई दिल्ली:

हैदराबाद में एक स्कूल ने कुछ ऐसा विज्ञापन सड़क पर लगाया, जिसके बाद होर्डिंग सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो गया. होर्डिंग में सबसे कम उम्र तीन साल के छोटे बच्चे को क्लास का टॉपर दिखलाया गया. पोस्टर में कुल 44 बच्चे हैं, जिनकी तस्वीर, नाम और उनके अंक प्राप्त करने वाले स्कोर लिखे हुए हैं. यह सभी बच्चे नर्सरी, एलकेजी, यूकेजी और पहली कक्षा के हैं. मालूम हो कि हैदराबाद के कोठापेट नाम के इलाके में मौजूद प्रिया भारती हाई स्कूल द्वारा यह होर्डिंग लगवाया गया है. जैसे ही इसकी तस्वीर सोशल मीडिया में आई, कुछ ही मिनटों में यह वायरल हो गया.

Hyderabad के कैब ड्राइवर ने जो पैसा लावारिस शवों के लिए किया था दान, उसी से हुआ उसका अंतिम संस्कार

पोस्टर में बच्चों को मिले स्कोर 10, 9.8, 9.7 और आगे का भी दिखलाया गया है. होर्डिंग के सबसे निचले हिस्से पर गारापाटी एजुकेशनल सोसाइटी लिखा हुआ है. ऐसा दावा है कि यह स्कूल तेलंगाना सरकार के अंतर्गत आता है. इतना ही नहीं, ट्विटर पर इस होर्डिंग पोस्टर को लेकर यूजर्स काफी हैरान दिखे. इस पर ट्रोलर्स भी अजीबोगरीब तरीके से अपने कमेंट कर रहे हैं. 


हाईकोर्ट के रिटायर जज के आवास पर घरेलू हिंसा का वीडियो सामने आया, सोशल मीडिया पर वायरल

टिप्पणियां

कुछ लोग ट्विटर पर इस होर्डिंग को लेकर स्कूल की आलोचना भी कर रहे है कि कम उम्र के बच्चों को अभी प्रतिस्पर्धा की ओर नहीं धकेलना चाहिए, जबकि वह अभी सीखने की ओर आगे बढ़ रहे हैं. एक ट्विटर यूजर ने यह भी लिखा कि बच्चों को अभी खेलने और मजे करने देना चाहिए. देश के प्री-स्कूलों के लिए दिशा-निर्देश भी जारी करने चाहिए. वहीं, एक और यूजर ने लिखा, ''ऐसे स्कूलों को बंद कर देना चाहिए. जरा सोचिए, जो बच्चे इस होर्डिंग में जगह नहीं बना पाए उनपर कितना प्रेशर आ गया होगा. यह शिक्षक नहीं बल्कि बच्चों के बचपन को खत्म करने वाले हत्यारे हैं.''

Video: मिड-डे मील की हकीकत दिखाने वाले पत्रकार पर दर्ज हुई FIR



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement