NDTV Khabar

मैंने अपने सिद्धांतों से कभी समझौता नहीं किया : लालकृष्‍ण आडवाणी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मैंने अपने सिद्धांतों से कभी समझौता नहीं किया : लालकृष्‍ण आडवाणी

भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी (फाइल फोटो)

माउंट आबू:

भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने रविवार को कहा कि उन्होंने किसी भी गलत काम को बढ़ावा नहीं देने की सीख आरएसएस से सीखी है और उन्होंने अपने सिद्धांतों से कभी समझौता नहीं किया. यहां आध्यात्मिक संगठन ब्रह्मकुमारी के परिसर में उसक 80वें वषर्गांठ समारोह के मौके पर आडवाणी ने कहा कि उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से अनुशासन एवं ईमानदारी समेत कई चीजें सीखीं जिन्होंने उनका चरित्र ढाला. उन्होंने भाजपा के वैचारिक मातृसंगठन आरएसएस को ‘अच्छे संगठनों में एक’ करार दिया और ऐसे संगठनों में काम कर रहे लोगों के सही आचरण की आवश्यकता पर बल दिया. उन्होंने कहा, ‘‘बचपन से मैं एक संगठन से जुड़ा रहा हूं जिसका मैं खूब सम्मान करता हूं.’’

आडवाणी ने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि भारत में कई संगठन हैं और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ उनमें एक है. मुझे उस पर गर्व है क्योंकि मैंने आरएसएस से ही अनुशासन, ईमानदारी और आदर्शवाद के गुण एवं अपनी सीख पायी है और यह भी कि व्यक्ति को अपने आचरण में सच्चा होना चाहिए.’’ आडवाणी ने कहा कि गलत बातों से समझौता नहीं करना ही आरएसएस की विचारधारा है. उन्होंने कहा, ‘‘यदि कोई गलत बात करता है तो ऐसी चीज को बढ़ावा नहीं दिया जाना चाहिए. ये चीजें भले ही छोटी मामूली चीज हों लेकिन मैं मानता हूं कि इन तत्वों को अपने में समाहित कर मैं समाज के लिए काम करने में समर्थ हो पाया हूं.’’


वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी को पार्टी के प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाये जाने का विरोध कर चुके पूर्व उपप्रधानमंत्री (89) ने कहा, ‘‘मैंने अपने जीवन एवं आचरण में कभी अपने सिद्धांतों से समझौता नहीं किया.’’ आडवाणी तब से पार्टी में हाशिये पर हैं. लोकसभा चुनाव में मोदी की जीत के बाद उन्हें सर्वशक्तिशाली संसदीय बोर्ड से बाहर कर दिया गया और रस्मी ‘मार्गदर्शक मंडल’ में डाल दिया गया.

टिप्पणियां

विभाजन से पहले कराची में अपने बचपन के दिनों से ही इस संगठन के विकास को याद करते हुए आडवाणी ने कहा कि ब्रह्मकुमारी दुनिया के लिए नैतिक मार्गदर्शन का स्रोत है और लेागों को उनसे ईमानदारी एवं अनुशासन सीखना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘‘अपने स्वभाव से कभी समझौता मत कीजिए. अपने स्वभाव को बिगड़ने मत दीजिए.’’

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement