JNU में बवाल: मदद के लिए दो घंटे के बाद भी नहीं आई पुलिस - JNU शिक्षक

JNU के ऐसे ही एक शिक्षक विक्रमादित्य ने एनडीटीवी से बातचीत में बताया कि घटना के समय उनकी पत्नी किसी काम से बाहर गई थीं.

JNU में बवाल: मदद के लिए दो घंटे के बाद भी नहीं आई पुलिस - JNU शिक्षक

जेएनयू में बवाल और हंगामा

नई दिल्ली:

देश के प्रतिष्ठित जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में एक बार फिर बवाल हुआ है. आरोप है कि चेहरे पर नकाब बांधे कुछ लोगों ने जेएनयू कैंपस के अंदर छात्रों और शिक्षकों पर हमला किया औऱ उनके साथ मारपीट की. इस हमले में छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष बुरी तरह घायल हो गईं हैं. प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि शाम करीब 6:30 बजे लगभग 50 गुंडे जेएनयू कैंपस में में घुस आए और छात्रों पर हमला करना शुरू कर दिया. आरोप है कि हमलावरों ने कैंपस के अंदर स्थित शिक्षकों के घरों पर भी हमला किया. जेएनयू के ऐसे ही एक शिक्षक विक्रमादित्य ने एनडीटीवी से बातचीत में बताया कि घटना के समय उनकी पत्नी किसी काम से बाहर गई थीं. इसी दौरान मुंह पर कपड़ा बांधे लड़कों ने उनपर हमला करने की कोशिश की औऱ वह किसी तरह से जान बचाकर वापस घर में आई. इसके बाद बदमाशों ने मेरे घर के दरवाजे को तोड़ने की कोशिश.

मैंने तुरंत ही कैंपस सिक्युरिटी और पुलिस को इसकी सूचना दी लेकिन अब दो घंटे बीतने को हैं लेकिन अभी तक न तो मदद के लिए पुलिस आई है और न ही कैंपस की सिक्युरिटी. बदमाशों ने मुझे धमकी दी है कि वह रात में मेरे घर को भी आग लगता देंगे. उन्होंने एनडीटीवी से बताया कि मैंने घटना के तुरंद बाद ही जेएनयू की सिक्यूरिटी को कॉल किया और बताया कि कि मेरे घर पर हमला हुआ है, लेकिन न तो वो आए न ही उन्होंने आगे पुलिस को बुलाया. मैनें जेएनयू रजिस्ट्रार को कई बार फोन किया उन्होंने फोन नहीं उठाया है. मैनें यहां के सिक्यूरिटी हेड को भी क़ॉल किया लेकिन उन्होंने भी नहीं उठाया है. 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com