NDTV Khabar

लखनऊ : IAS अनुराग तिवारी की मौत दम घुटने से हुई, पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट की पहली जानकारी

अनुराग तिवारी की बॉडी पिछले बुधवार की सुबह राजधानी लखनऊ में एक सड़क किनारे मिली थी. पुलिस ने इसको 'रहस्‍यमय परिस्थितियों' में मौत कहा था. उसके बाद परिजनों की मांग पर योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने इस मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी है.

143 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
लखनऊ : IAS अनुराग तिवारी की मौत दम घुटने से हुई, पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट की पहली जानकारी

अनुराग तिवारी 2007 बैच के कर्नाटक कैडर के अधिकारी थे .(फाइल फोटो)

खास बातें

  1. पिछले बुधवार को अनुराग तिवारी की बॉडी सड़क किनारे मिली
  2. वह मूल रूप से यूपी के बहराइच के रहने वाले थे
  3. योगी सरकार ने मामले की सीबीआई जांच के आदेश दिए हैं
कर्नाटक कैडर के IAS अधिकारी अनुराग तिवारी की मौत दम घुटने से हुई. पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट की पहली जानकारी से यह बात निकलकर आई है. अनुराग तिवारी की बॉडी पिछले बुधवार की सुबह राजधानी लखनऊ में एक सड़क किनारे मिली थी. पुलिस ने इसको 'रहस्‍यमय परिस्थितियों' में मौत कहा था. उसके बाद परिजनों की मांग पर योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने इस मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी है.

अनुराग तिवारी 2007 बैच के कर्नाटक कैडर के आईएएस थे. वह यूपी के ही बहराइच के रहने वाले थे. पुलिस के मुताबिक उनकी बॉडी हजरतगंज इलाके में मीरा बाई गेस्‍ट हाउस के पास मिली थी. अनुराग तिवारी की गिनती होशियार नौकरशाह के रूप में होती थी.

पिछले साल जब वो बीदर के डिप्टी कलेक्टर बन कर गए थे तो वहां पानी की कमी से जूझ रहे लोगों के लिए बेहतरीन काम किया था. बीदर में 130 से ज्यादा टैंक और 100 से ज्यादा कुंआ खुदवाकर सुर्खियों में आ गए थे. यही नहीं पांच सौ साल पुरानी सूख चुकी जहाज की बावड़ी की सफाई कराकर फिर से पानी से लबालब कर दिया था और इसके चलते जिले के लोग उन्हें प्यार से वाटरमैन के नाम से पुकारते थे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement