NDTV Khabar

हरिद्वारः डीएम ने जब रोक लिया 'बुलेट राजा' को , नंबर गुम देख बोले- मारकर भागोगे तो हम पकड़ेंगे कैसे?

हरिद्वार के डीएम दीपक रावत ( IAS Deepak Rawat) ने जब बिना नंबर और डीएल के बुलेट लेकर चल रहे युवक को पकड़ा तो करीब आधे घंटे तक की पूछताछ.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
हरिद्वारः डीएम ने जब रोक लिया 'बुलेट राजा' को , नंबर गुम देख बोले- मारकर भागोगे तो हम पकड़ेंगे कैसे?

हरिद्वार के डीएम दीपक रावत ने जब बिना नंबर के चल रही बुलेट गाड़ी पकड़ी.

नई दिल्ली:

उत्तराखंड के चर्चित आईएएस और हरिद्वार के डीएम दीपक रावत  (IAS Deepak Rawat) अक्सर अपने एक्शन की वजह से चर्चा में रहते हैं.सोशल मीडिया पर उनकी छापेमारी और चेकिंग के वीडियो भी अक्सर वायरल हो जाते हैं. दीपक रावत का सोशल मीडिया पर इन दिनों एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वह बिना नंबर और ड्राइविंग लाइसेंस और कागजात के बुलेट चला रहे युवक को पकड़ने की कार्रवाई है. छह जनवरी को शेयर किए गए इस वीडियो में करीब आधे घंटे तक डीएम युवक से तरह-तरह के सवाल पूछकर उस पर शंका जाहिर कर रहे हैं कि वह किसी गलत मकसद से कलेक्ट्रेट के आसपास टहल रहा है. यह वीडियो उनके नाम से बने फैंस क्लब के फेसबुक पेज पर शेयर है. जिसे करीब एक मिलियन से अधिक लोग देख चुके हैं. 

यह भी पढ़ें- हरिद्वार के इस गांव में डीएम दीपक रावत ने मारा छापा तो हुआ बड़ा खुलासा


दरअसल, कलेक्ट्रेट के पास एक युवक बुलेट बाइक से ड्रग इंस्पेक्टर की ऑफिस का पता खोज रहा था. उधर से गुजर रहे डीएम दीपक रावत की अचानक नजर पड़ गई तो उन्होंने प्लेट पर नंबर न होने पर डीएल मांगा तो युवक दिखा नहीं सका. डीएम से युवक ने कहा कि उसने गाड़ी के नंबर के लिए आवेदन किया है. इस पर डीएम ने पूछा- तो टेंपोरेरी मिला होगा, वह नंबर कहां है. युवक ने कहा-ऐसा कोई नंबर नहीं है. इस बीच डीएम ने देखा की बुलेट के आगे स्वास्थ्य विभाग लिखा हुआ था. डीएम ने कहा- तुम तो स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत हो फिर दिन में इधर कहां टहल रहे हो. युवक ने कहा कि मेरी क्लीनिक है तो डीएम बोले- अपनी क्लीनिक चलाने वाला क्या स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत होता है. बाद में पता चला कि सहारनपुर निवासी यह युवक हरिद्वार में मेडिकल स्टोर चलाता है.

यह भी पढ़ें- हल्द्वानी : डीएम दीपक रावत ने लिया एक्शन, अब ट्रैफिक से मिलेगी निजात

इस पर डीएम ने ड्रग इंस्पेक्टर नीरज को फोन कर कहा- यह माजरा समझ नहींं पा रहा हूं कि सहारनपुर का आदमी कैसे हरिद्वार में दुकान चला रहा है. युवक ने पूछताछ के दौरान बताया कि उसने लाइसेंस के लिए आवेदन किया है, इस लिए ड्रग इंस्पेक्टर ऑफिस जा रहा था. डीएम दीपक रावत ने ड्रग इंस्पेक्टर को ऐसे लोगों की मेडिकल स्टोर की जांच करने को कहा, जो दूसरे प्रांत से यहां पर दुकान चला रहे हैं. डीएम ने कहा कि ऐसे लोग बिल चोरी कर दवाएं गैर प्रांत में बेचने का काम कर सकते हैं. इसलिए सभी मेडिकल स्टोर की चेकिंग होनी चाहिए. 

देखें- बुलेट चेकिंग का वीडियो

टिप्पणियां

मारकर भाग जाओगे, कैसे पकड़ेंगे

बिना नंबर प्लेट की बुलेट चला रहे युवक से डीएम दीपक रावत ने पूछा- तुम अगर किसी को मारकर भागोगे तो हम कैसे पकड़ेंगे. भले ही सीसीटीवी में फोटो गाड़ी का आ जाए, फिर भी बिना नंबर के नहीं पकड़ में आओगे. गाड़ी का नंबर, डीएल और कागजात न होने पर डीएम ने स्टाफ से कहा कि गाड़ी को कलेक्ट्रेट में रखवाकर एआरटीओ के हवाले कर दें. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement