ICMR ने रैपिड एंटीजन डिटेक्शन टेस्ट के लिए जारी की एडवायज़री , 30 मिनट में हो सकेगी कोरोना की जांच

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने RT-PCR के कॉम्बिनेशन के साथ एंटीजन डिटेक्शन टेस्ट के इस्तेमाल की सिफारिश की है.

ICMR ने रैपिड एंटीजन डिटेक्शन टेस्ट के लिए जारी की एडवायज़री , 30 मिनट में हो सकेगी कोरोना की जांच

निगेटिव टेस्ट आने पर RT-PCR करवाना ज़रूरी नहीं होगा.

नई दिल्ली:

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने RT-PCR के कॉम्बिनेशन के साथ एंटीजन डिटेक्शन टेस्ट के इस्तेमाल की सिफारिश की है. इस टेस्ट के माध्यम से कोविड संक्रमितों की पहचान तेजी से की जा सकेगी. अभी जिस RT-PCR का इस्तेमाल किया जा रहा है उसके लिए खास लैब की जरूरत होती है. एंटीजन डिटेक्शन टेस्ट के लिए खास उपकरण की जरूरत नहीं होगी, टेस्ट किट को 2 डिग्री से 30 डिग्री के बीच रखा जा सकता है. ICMR के मुताबिक एंटीजन डिटेक्शन टेस्ट से जिनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आएगी उन्हें पॉजिटिव ही माना जायेगा उन्हें आरटीपीसीआर टेस्ट की जरूरत नही पड़ेगी. एंटीजन डिटेक्शन टेस्ट की रिपोर्ट 30 मिनट के अंदर आ जाती है. 

हॉटस्पॉट्स और हॉस्पिटल में एडमिट मरीजों का कोरोनावायरस टेस्ट रैपिड एंटीजन डिटेक्शन के ज़रिए आधे घंटे में मुमकिन होगा. जिनका टेस्ट पॉजिटिव आएगा तो उन्हें COVID का मरीज माना जाएगा, निगेटिव टेस्ट आने पर RT PCR करवाना ज़रूरी नहीं होगा. कोविड के खिलाफ लड़ाई में इसकी अहम भूमिका हो सकती है. जल्दी टेस्ट होने से अस्पतालों में हो रही असुविधाओं से भी बचा जा सकता है. 

बता दें कि दुनियाभर के तमाम देशों के साथ-साथ भारत में भी कोरोनावायरस (COVID-19) का कहर तेजी से बढ़ता जा रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सोमवार को जारी आंकड़ों के अनुसार भारत में इस वायरस से संक्रमितों की संख्या 332,424 हो गई है. सोमवार की सुबह समाप्त हुए 24 घंटों में कोरोना के 11502  नए मामले सामने आए और 325 लोगों की मौत हुई. देश में अब तक 9520 लोगों की मौत हो चुकी है, हालांकि 169798 मरीज इस बीमारी को मात देने में सफल हुए हैं. रिकवरी रेट में मामूली बढ़ोतरी के साथ यह दर 51.07 प्रतिशत पर पहुंच गई है.

Video: नोएडा में प्राइवेट लैब की लापरवाही, कोरोना नहीं था फिर भी बताया पॉजिटिव

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com