Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

पिता बलात्कारी हो तो बिना पुष्टि के भी पीड़िता की गवाही की जा सकती है स्वीकार : दिल्ली हाईकोर्ट

अदालत ने उस व्यक्ति की अपील पर सुनवाई के दौरान की टिप्पणी, जिसे अपनी 17 साल की बेटी से बलात्कार का दोषी ठहराया गया

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पिता बलात्कारी हो तो बिना पुष्टि के भी पीड़िता की गवाही की जा सकती है स्वीकार : दिल्ली हाईकोर्ट

प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली:

दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा है कि किसी बलात्कार पीड़िता की गवाही को वैसे मामलों में बिना पुष्टि के भी स्वीकार किया जा सकता है, जिसमें बलात्कारी पिता ही हो. अदालत की टिप्पणी एक व्यक्ति की अपील पर सुनवाई के दौरान आई, जिसे अपनी 17 साल की बेटी से बलात्कार का दोषी ठहराया गया था.

न्यायमूर्ति प्रतिभा रानी की पीठ ने नवंबर 2009 में निचली अदालत द्वारा उस व्यक्ति को सुनाई गई सात साल के कारावास की सजा को बरकरार रखा था. उस व्यक्ति को अपनी बेटी से बलात्कार का दोषी ठहराया गया था.

टिप्पणियां

VIDEO : पिता और भाई ने किया दुष्कृत्य


अदालत ने कहा, ‘‘बलात्कार के वैसे मामले जहां अपराधी और कोई नहीं बल्कि पिता ही है, उस स्थिति में पीड़िता के बयान को बिना किसी पुष्टि के ही स्वीकार किया जा सकता है. पीड़िता के बयान में तारीख या महीने के सिवाय और कोई ठोस विरोधाभास नहीं है.’’ अदालत ने कहा, ‘‘यह अदालत इस बात की अनदेखी नहीं कर सकती कि वह निरक्षर है और शिकायत के साथ-साथ प्राथमिकी पर भी अपने अंगूठे का निशान लगाया. निरक्षर होने के नाते वह कोई खास तारीख और समय या महीना या साल बताने में सक्षम नहीं है.’’ उस व्यक्ति ने अपनी दोषसिद्धि को चुनौती दी थी. उसने अपनी बेटी की गवाही में अनियमितता की ओर इशारा किया था.
(इनपुट भाषा से)



दिल्ली चुनाव (Elections 2020) के LIVE चुनाव परिणाम, यानी Delhi Election Results 2020 (दिल्ली इलेक्शन रिजल्ट 2020) तथा Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... दीपिका पादुकोण ने कहा, "इश्‍क करना खता है तो सजा दो मुझे...", TikTok पर वायरल हुआ वीडियो

Advertisement