NDTV Khabar

संसद में BJP सांसद का बयान- ऑटोमोबाइल सेक्टर में मंदी है तो फिर सड़कों पर ट्रैफिक जाम क्यों?

बलिया से बीजेपी सांसद ने लोकसभा में कहा कि 'देश और सरकार को बदनाम करने के लिए लोग कह रहे हैं कि ऑटोमोबाइल सेक्टर (Automobile Sector) में मंदी है. उन्होंने दलील दी की अगर गाड़ियों की बिक्री में गिरावट है तो फिर सड़कों पर ट्रैफिक जाम क्यों हैं?' 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
संसद में BJP सांसद का बयान- ऑटोमोबाइल सेक्टर में मंदी है तो फिर सड़कों पर ट्रैफिक जाम क्यों?

बलिया से बीजेपी सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त.

खास बातें

  1. 'देश को बदनाम करने के लिए की जा रही मंदी की बात'
  2. 'ऑटोमोबाइल क्षेत्र में मंदी तो फिर सड़कों पर जाम क्यों?'
  3. बलिया से भारतीय जनता पार्टी के सांसद हैं वीरेंद्र सिंह मस्त
नई दिल्ली:

ऑटोमोबाइल सेक्टर में मंदी को लेकर BJP सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त (Virendra Singh Mast) का अजीबोगरीब बयान सामने आया है. बलिया से बीजेपी सांसद ने लोकसभा में कहा कि 'देश और सरकार को बदनाम करने के लिए लोग कह रहे हैं कि ऑटोमोबाइल सेक्टर (Automobile Sector) में मंदी है. उन्होंने दलील दी की अगर गाड़ियों की बिक्री में गिरावट है तो फिर सड़कों पर ट्रैफिक जाम क्यों हैं?' आर्थिक मंदी को लेकर विपक्ष के आरोपों पर पलटवार करते हुए वीरेंद्र सिंह मस्त ने लोकसभा में कहा कि देश को बदनाम करने के लिए ऑटो क्षेत्र में मंदी और बिक्री कम होने की बातें की जा रही हैं. उन्होंने 'विभिन्न कारणों से फसल को हुई क्षति और इसका किसानों पर प्रभाव' के बारे में नियम के 193 के तहत चर्चा के दौरान यह टिप्पणी की.


BJP सांसद ने यह भी कहा कि प्याज को महंगे होने की बात की जा रही है, लेकिन चलिए 'मैं अपने संसदीय क्षेत्र (बलिया) के मोहमदाबाद में 25 रुपये किलोग्राम की दर एक ट्रक प्याज दिलवाता हूं.' उन्होंने कहा कि देश में आर्थिक मंदी का माहौल खड़ा किया जा रहा है. कहा जा रहा है कि ऑटो क्षेत्र में खरीद में कमी आई है. यह देश को बदनाम करने के लिए किया जा रहा है. उन्होंने सवाल किया, 'अगर ऑटो क्षेत्र में खरीद कम होती तो सड़कों पर जाम क्यों है? आज एक-एक घर में कई गाड़ियां हैं.' भाजपा सांसद ने यह भी कहा कि लोग जीडीपी की बातें करते हैं, लेकिन लेकिन ग्रामीण अर्थव्यवस्था इस पैमाने से तय नहीं हो सकती है. ग्रामीण अर्थव्यवस्था मजबूत है क्योंकि यह श्रम आधारित है और यहां बचत की परंपरा है. उन्होंने कहा कि आज गांवों और कस्बों में जाकर देखा जा सकता है कि लोग बड़े पैमाने पर पैसे जमा करा रहे हैं. सिंह ने कहा कि गावों को ध्यान में रखकर नीतियां बननी चाहिए.

ब्रिक्स बिजनेस फोरम में PM मोदी बोले- भारत दुनिया की सबसे खुली और निवेश के अनुकूल अर्थव्यवस्था

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि ये लोग किसानों से बात नहीं करते हैं, किसानों को नहीं जानते, सिर्फ किताबों में किसान के बारे में पढ़ते हैं. उन्होंने कहा कि आजाद भारत में पहली बार नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार ने सभी किसानों को उनके खाते में सीधे पैसे दिए. सिंह ने यह भी कहा कि किसान के 60 साल की उम्र पूरी करने पर उसके लिए पेंशन की व्यवस्था की जानी चाहिए. 

रणदीप सुरजेवाला ने कहा- बीजेपी के लिए GDP का मतलब है 'गोडसे डिवीसिव पॉलिटिक्स'

इससे पहले नवंबर महीने में केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी ने अर्थव्यवस्था के बारे में विपक्ष की आलोचनाओं को खारिज करते हुए कहा था कि 'हवाईअड्डे और रेलगाड़ियां ठसाठस भरी हैं और लोग शादी कर रहे हैं' जो यह बताता है कि देश की अर्थव्यवस्था ''अच्छी चल'' रही है. रेल राज्यमंत्री अंगड़ी ने कहा था कि अर्थव्यवस्था में हर तीन साल में नरमी आती है लेकिन यह जल्द ही रफ्तार पकड़ लेगी. उन्होंने कहा कि 'कुछ लोग' प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि को धूमिल करने का प्रयास कर रहे हैं. 

टिप्पणियां

VIDEO: मंदी पर क्या करने जा रही सरकार?

(इनपुट: भाषा से भी)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... नागरिकता कानून को लेकर लोकसभा स्पीकर ने EU को लिखा खत,  कहा- CAA के खिलाफ प्रस्ताव गलत नजीर होगा

Advertisement