IMA ने कहा- आयुर्वेद डॉक्टरों को सर्जरी की मंजूरी देना चिकित्सा शिक्षा का ‘खिचड़ीकरण’

आयुर्वेद के स्नातकोत्तर डॉक्टरों को सामान्य सर्जरी प्रक्रिया को अंजाम देने के लिए प्रशिक्षित किए जाने की अनुमति वापस लेने की मांग

IMA ने कहा- आयुर्वेद डॉक्टरों को सर्जरी की मंजूरी देना चिकित्सा शिक्षा का ‘खिचड़ीकरण’

प्रतीकात्मक फोटो.

नई दिल्ली:

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने मंगलवार को मांग की कि भारतीय चिकित्सा केंद्रीय परिषद (CCIM) की वह अधिसूचना वापस ली जानी चाहिए जिसमें आयुर्वेद के स्नातकोत्तर डॉक्टरों को सामान्य सर्जरी प्रक्रिया को अंजाम देने के लिए प्रशिक्षित किए जाने की अनुमति दी गई है. इसने कहा कि यह चिकित्सा शिक्षा या प्रैक्टिस का ‘‘खिचड़ीकरण'' है.

Newsbeep

आयुष मंत्रालय के अधीन भारतीय चिकित्सा प्रणालियों के नियमन से जुड़ी सांविधिक इकाई सीसीआईएम ने 20 नवंबर को जारी अधिसूचना में 39 सामान्य सर्जरी प्रक्रियाओं को सूचीबद्ध किया था जिनमें से 19 प्रक्रियाएं आंख, नाक, कान और गले से जुड़ी हैं. इसके लिए भारतीय चिकित्सा केंद्रीय परिषद (स्नातकोत्तर आयुर्वेद शिक्षा) अधिनियम, 2016 में संशोधन किया गया था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


आईएमए ने 22 नवंबर को इस कदम की निन्दा की थी और चिकित्सा प्रणालियों के मिश्रण को पीछे की ओर ले जानेवाला कदम करार दिया था. इसने मंगलवार को एक बयान में कहा कि यह चिकित्सा शिक्षा और प्रैक्टिस के ‘‘खिचड़ीकरण'' का प्रयास है. देश का समूचा आधुनिक चिकित्सा व्यवसाय इस तरह की चीजों से खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहा है. आईएमए ने संबंधित अधिसूचना को वापस लिए जाने की मांग की.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)