IMF प्रमुख ने डॉ. प्रणय रॉय से कहा, ''स्टिमुलस बढ़ने से निश्चित तौर पर भारत को मदद मिलेगी''

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की प्रमुख क्रिस्टलीना जॉर्जीवा ने कोरोनो वायरस महामारी से उत्पन्न चुनौतियों और आईएमएफ द्वारा निभाई जा रही भूमिका के बारे में NDTV के डॉ प्रणय रॉय से बात की.

नई दिल्ली:

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की प्रमुख क्रिस्टलीना जॉर्जीवा ने कोरोनो वायरस महामारी से उत्पन्न चुनौतियों और आईएमएफ द्वारा निभाई जा रही भूमिका के बारे में NDTV के डॉ प्रणय रॉय से बात की. उन्होंने बताया कि कैसे आईएमएफ विकासशील देशों की कोरोना का सामना करने में मदद कर रहा है. NDTV से बात करते हुए आईएमएफ प्रमुख ने कहा, "हमने सौ बिलियन डॉलर से अधिक की सहायता की है."

आईएमएफ प्रमुख ने कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के लिए टेस्टिंग पर जोर दिया. उन्होंने कहा, "भारत उन देशों में से एक है जिन्होंने टेस्टिंग को और अधिक उपलब्ध बनाने के लिए बहुत आक्रामक कदम उठाया है. जब आप अधिक टेस्टिंग करते हैं तो आप महामारी से लोगों को अलग करते हैं. ”

उन्होंने कहा, ''मेरा छोटा सा देश, बुल्गारिया, भारत के प्रति हमेशा से आकर्षित रहा है और इंदिरा गांधी के दिनों में दोनों देशों के बीच मित्रता रही है. मैंने भारत की संस्कृति, इतिहास और लोगों में एक बड़ी रुचि विकसित की. भारत में राष्ट्र की अविश्वसनीय गतिशीलता है. भारत यह महसूस करने के लिए एक शानदार जगह है कि ऐसे मूल्य भी हैं जिन पर हम सभी एकजुट हो सकते हैं.''

Newsbeep

उन्होंने कहा,'' भारत को समय से पहले समर्थन उपाय वापस नहीं लेने चाहिए. भारत सबसे कमजोर लोगों के लिए लक्षित तरीके से और छोटे और मध्यम आकार के उद्यमों के लिए बड़े पैमाने पर दिवालिया होने से बचाने के लिए और अधिक कर कोशिश कर सकता है. भविष्य में और अधिक लचीला होने के लिए, संरचनात्मक सुधारों को आगे बढ़ाना चाहिए. भारत ऐसा करने का विकल्प चुन रहा है.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने कहा, ''भारत में एक बहुत अच्छी डिजिटल आईडी प्रणाली है जो आपको सबसे कमजोर लोगों को लक्षित समर्थन को निर्देशित करने की अनुमति देती है और यह पूरी तरह से इसका उपयोग करने का एक बहुत अच्छा समय है. अत्यधिक गरीबी में रहने वाले लोगों की संख्या को कम करने के लिए, और उद्यमशीलता के अवसरों के विस्तार के लिए भी, विशेष रूप से महिलाओं के लिए. हम इस संकट में देखते हैं कि महिलाएं अपने परिवारों के लिए जिम्मेदारी से काम करती हैं. इसलिए, भारतीय महिलाओं को और भी सशक्त करें.''