आंकड़ों की अनदेखी मत करिए: चीन के GDP के डेटा में सुधार लेकिन भारत के लिए 'खतरे की घंटी'..

IMF के अनुमानों के अनुसार, यह इस साल -10.3 फीसदी की ग्रोथ के साथ बांग्‍लादेश, वियतनाम, चीन, नेपाल, पाकिस्‍तान और पांच अन्‍य एशियाई देशों से भी नीचे रह सकती है.

आंकड़ों की अनदेखी मत करिए: चीन के GDP के डेटा में सुधार लेकिन भारत के लिए 'खतरे की घंटी'..

जीडीपी को लेकर आईएमएफ का इस साल का अनुमान भारत के लिए चिंता बढ़ाने वाला है

खास बातें

  • तीसरी तिमाही में चीन की GDP 4.9% दर्ज हुई
  • भारत की जीडीपी को लेकर IMF के अनुमान चिंता बढ़ाने वाले
  • बांग्‍लादेश, चीन, नेपाल, पाकिस्‍तान जैसे देशों से भी रहेगी नीचे
नई दिल्ली:

चीन की विकास दर (China's growth), कोरोना वायरस महामारी पहले के स्‍तर की ओर लौट रही है. सोमवार को जारी किए गए आंकडों के अनुसार, दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था (Economy) वाले चीन की वित्तीय वर्ष 2020-21 की तीसरी तिमाही में GDP 4.9% दर्ज की गई है. ये आंकड़े दर्शाते हैं कि चीन में इकोनॉमी बेहतरी के दौर की ओर लौट रही है और कोरोना महामारी के पहले के स्‍तर को छूने की ओर से बढ़ रही है. चीन की इकोनॉमी से जुड़े आंकड़े सामने आने के साथ ही अर्थशास्त्रियों ने दूसरे एशियाई देशों के बारे में भी अनुमान जताए हैं. पूरे वर्ष के वास्‍तविक सकल घरेलू उत्‍पाद (GDP) को लेकर अंतरराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के अनुमानों के अनुसार, जहां बांग्‍लादेश और चीन ने अच्‍छी रिकवरी दिखाई है, वहीं भारत (India) इस मामले में एशिया में सबसे खराब प्रदर्शन करने वाला देश साबित हो सकता है.

GDP की गिरावट पर रघुराम राजन बोले, 'आत्‍म संतोष से बचने और इकोनॉमी को प्रोत्‍साहन देना जरूरी'

कोरोना महामारी के चलते भारत की इकोनॉमी बुरी तरह से प्रभावित हुई थी. IMF के अनुमानों के अनुसार, इस साल 10.3 फीसदी की गिरावट के साथ भारत बांग्‍लादेश, वियतनाम, चीन, नेपाल, पाकिस्‍तान और पांच अन्‍य एशियाई देशों से भी नीचे रह सकती है. केंद्रीय वित्‍त मंत्रालय के पूर्व मुख्‍य आर्थिक सलाहकार कौशिक बसु सरकार के लिए चेतावनी जारी करते हुए कहते हैं, 'कुछ साल पहले किसी ने यह नहीं सोचा था कि भारत की अर्थव्‍यवस्‍था ऐसी अवस्‍था में होगी. इसके एक हिस्‍सा कोविड-19 के कारण है लेकिन केवल एक हिस्‍सा. आंकड़ों को अनदेखी मत कीजिए. गलतियां होती है, इसे स्‍वीकार करते हुए सुधारात्‍मक उपाय करिए. देश में मौजूद प्रतिभा और विशेषज्ञता का इस्‍तेमाल कीजिए. '

'एसोचैम' कार्यक्रम में बोले पीएम मोदी- 2014 में तबाह हो चुकी थी अर्थव्यवस्था, हमने संभाला

हालांकि एशिया की तीसरी सबसे बड़ी इकोनॉमी भारत इस स्थिति से उबरकर वापस 2021 में वापस 8.8 फीसदी की विकास दर (growth rate) दर्ज कर सकता है. आईएमएफ ने कहा है कि 2021 में भारतीय अर्थव्यवस्था में संभवत: 8.8 प्रतिशत की जोरदार बढ़त दर्ज की जायेगी और वह चीन को पीछे छोड़ते हुये तेजी से बढ़ने वाली उभरती अर्थव्यवस्था का दर्जा फिर से हासिल कर लेगी. चीन के 2021 में 8.2 प्रतिशत वृद्धि हासिल करने का अनुमान है.

Newsbeep

GDP ग्रोथ में भारत को पछाड़ सकता है बांग्लादेश- IMF

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com