NDTV Khabar

पंजाब में आरक्षण विरोधी बंद का मिला-जुला असर

फगवाड़ा में भी दुकानें बंद रही. पंजाब शिवसेना बाल ठाकरे और ऑल इंडिया हिंदू सुरक्षा समिति पंजाब की अगुवाई में प्रदर्शनकारियों ने दुकानदारों को दुकानें बंद करने को कहा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पंजाब में आरक्षण विरोधी बंद का मिला-जुला असर

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

चंडीगढ़: देश में मंगलवार को बुलाए गए आरक्षण विरोधी बंद का पंजाब में मिला - जुला असर देखने को मिला और होशियारपुर , फगवाड़ा, संगरूर , बठिंडा समेत राज्य के कुछ हिस्सों में व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे जबकि प्रदर्शनकारियों ने कई क्षेत्रों में मार्च निकाले. बहरहाल ,हरियाणा में बंद का ज्यादा असर नहीं दिखा. समूचे राज्य में दुकानों और शिक्षण संस्थानों में रोज की तरह कामकाज हुआ, जबकि रेल तथा सड़क यातायात भी सामान्य रहा. पंजाब पुलिस ने राज्य में किसी भी अप्रिय स्थिति को टालने के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए थे.

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘राज्य में स्थिति शांतिपूर्ण रही.’ उन्होंने कहा कि कुछ स्थानों पर पुलिस ने वक्त पर दखल देकर विरोधी समूहों के बीच तनाव को टाल दिया. राज्य में आहूत बंद का असर सार्वजनिक परिवहन और रेल गाड़ियों की आवाजाही पर नहीं पड़ा. हालांकि फिरोजपुर जिले में दुकानों को जबरन बंद कराने को लेकर दो समूहों के बीच हुए संघर्ष में कई लोग जख्मी हो गए.

यह भी पढ़ें : भारत बंद : बिहार में केंद्रीय राज्यमंत्री उपेंद्र कुशवाहा को रोका, बदसलूकी की

होशियारपुर जिले में, आरक्षण के विरोध में बुलाए गए बंद के समर्थन में तलवारा, हाजीपुर, गढ़दीवाला, हरिअना, भुंगा, गढ़शंकर और बेनीवाल शहरों में दुकानदारों ने अपनी दुकानों को बंद रखा. होशियारपुर में दोआबा जनरल केटेगिरी फ्रंट के अध्यक्ष बलबीर और राजपूत करणी सेना के प्रमुख लकी ठाकुर की अगुवाई में प्रदर्शनकारियों ने जेल चौक से मिनी सचिवालय तक विरोध मार्च निकाला और इस बाबत होशियारपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जे एलनचेझीआन को ज्ञापन सौंपा.

फगवाड़ा में भी दुकानें बंद रही. पंजाब शिवसेना बाल ठाकरे और ऑल इंडिया हिंदू सुरक्षा समिति पंजाब की अगुवाई में प्रदर्शनकारियों ने दुकानदारों को दुकानें बंद करने को कहा. फगवाड़ा में मंगलवार को कई स्कूलों में छुट्टी का भी ऐलान किया गया. हालांकि बंद शांतिपूर्ण रहा लेकिन जब सिनेमा रोड पर दलित कार्यकर्ता जमा हो गए और जबरन दुकानों को बंद करने का विरोध करने लगे तो तनाव व्याप्त हो गया. फिरोजपुर में कथित रूप से दुकानों को बंद करने को लेकर दो समूहों में संघर्ष हो गया. पुलिस ने बताया कि घटना उस वक्त हुई जब बंद का समर्थन करने वाले समूह दुकानों को जबरन बंद कराने लगे.

यह भी पढ़ें : भारत बंद : मध्य प्रदेश के भिंड-मुरैना में कर्फ्यू, कई स्थानों पर निषेधाज्ञा

टिप्पणियां
सुबह करीब 10 बजे तलवारों, बेसबॉल बेट और अन्य हथियारों के साथ सैकड़ों लोग कथित रूप से दुकानें बंद करने के लिए दुकानदारों को बाध्य करने लगे. स्थिति तब तनावपूर्ण हो गई जब प्रदर्शनकारियों ने दलित समुदाय से ताल्लुक रखने वाले व्यक्ति को दुकान बंद करने के लिए बाध्य किया. पुलिस ने बताया कि जब उसने दुकान बंद करने से मना किया तो प्रदर्शनकारियों ने उसकी दुकान पर कथित रूप से हमला कर दिया और संपत्ति को नुकसान पहुंचाया. इसके बाद प्रतिद्वंद्वी समूहों के लोग वहां पहुंच गए और एक दूसरे पर पथराव किया. इस घटना में सड़क पर खड़ी कई गाड़ियां भी क्षतिग्रस्त हुईं.  
VIDEO : भारत बंद का बिहार और झारखंड में व्यापक असर, आरा में दो पक्ष भिड़े​

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement