पुलिस की अनोखी मुहिम, नियम तोड़ने वालों का चालान काटने की जगह...

हैदराबाद के रचाकोंडा पुलिस कमिश्नर लोगों को ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरुक करने के लिए नियम तोड़ने वालों का चालान नहीं करते बल्कि उन्हें उसी समय हेलमेट खरीदने को कहते हैं.

पुलिस की अनोखी मुहिम, नियम तोड़ने वालों का चालान काटने की जगह...

हैदराबाद पुलिस की अनोखी मुहिम

नई दिल्ली:

एक तरफ जहां ट्रैफिक नियमों की अनदेखी पर भारी जुर्माने को लेकर लोगों की कड़ी प्रतिक्रिया आ रही है. वहीं, हैदराबाद पुलिस लोगों को नियमों के प्रति जागरुक करने के लिए अनोखी मुहिम चला रही है. हैदराबाद के रचाकोंडा पुलिस कमिश्नर लोगों को ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरुक करने के लिए नियम तोड़ने वालों का चालान नहीं करते बल्कि उन्हें उसी समय हेलमेट खरीदने को कहते हैं. इस मुहिम को डिप्टी कमिश्नर (ट्रैफिक) दिव्य चरण राव ने शनिवार को शुरू किया है. बता दें कि इस मुहिम के तहत अगर कोई चालक बगैर हेलमेट के पकड़ा जाता है तो उसे उसी समय हेलमेट खरीदने को कहा जाता है. साथ ही अगर किसी के पास जरूरी कागजात जैसे की पाल्युशन व इंश्यूरेंस सर्टिफिकेट नहीं हो तो ऑथिरिटी से मिलकर उसी समय उसे बनवाया जाता है. पुलिस की इस मुहिम को आम लोगों द्वारा खासा सराहा जा रहा है. 

..जब ट्रैफिक नियम तोड़ने पर परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को भी भरना पड़ा जुर्माना, जानें पूरा मामला

गौरतलब है कि हैदराबाद पुलिस द्वारा चलाई जा रही यह मुहिम इस तरह की अकेली मुहिम नहीं है. इससे पहले बिहार के मोतिहारी शहर में बिना हेलमेट या बीमा नवीनीकरण के चलने वाले मोटरसाइकिल सवारों के साथ पुलिस का अनोखा व्यवहार सामने आया था. दरअसल बिना हेलमेट चलने वालों या जिनका बीमा खत्म हो चुका है, उनका चालान काटने की जगह पुलिस उन्हें अपनी गलती सुधारने का मौका दे रही है. इसके लिए पुलिस ने जांच चौकियों पर ही व्यवस्था की है, ताकि सवारी तुरंत हेलमेट खरीद सकें और वाहन बीमा का नवीनीकरण करा सकें. इस अभियान की शुरुआत पूर्वी चंपारण जिले के मोतिहारी में छतौनी थाने के एसएचओ मुकेश चंद्र कुंवर ने की है.

यूपी में कार चलाते वक्त नहीं पहना हेलमेट तो काट दिया चालान, शख्स ने किया अब ऐसा

उन्होंने पीटीआई को बताया था कि मैंने कुछ हेलमेट विक्रेताओं और बीमा एजेंटों से बात की है, जिन्होंने जांच चौकियों के पास स्टॉल लगाए हैं. सवारियों पर जुर्माना नहीं लगाया जा रहा है, क्योंकि इससे उन्हें महसूस होता है कि वे अपराधी हैं. इसके बजाय, वे अच्छी गुणवत्ता वाले हेलमेट खरीदने और अपने बीमा को नवीकृत कराने के लिए प्रोत्साहित होते हैं.' अधिकारी ने कहा था कि उन्होंने जिला परिवहन विभाग से एक अधिकारी को तैनात करने का भी अनुरोध किया है, जो बिना लाइसेंस के गाड़ी चला रहे लोगों को मौके पर ही लर्नर लाइसेंस जारी कर दें.

उन्होंने कहा था कि जनता के बीच इस बात की भी धारणा बढ़ रही है कि संशोधित मोटर वाहन अधिनियम ने पुलिस को जबरन पैसा निकलवाने के लिए खुली छूट दे दी है. इस तरह का अविश्वास पुलिस व्यवस्था के लिए हानिकारक है.' एसएचओ ने कहा था कि मोतिहारी का ऐतिहासिक महत्व उस भूमि के रूप में है जहां महात्मा गांधी ने 1917 में चंपारण सत्याग्रह का शुभारंभ किया था.

नागपुर पुलिस ने लैंडर 'विक्रम' से पूछा, कहां हो.... संपर्क करो, नहीं काटेंगे चालान

Newsbeep

उन्होंने कहा था कि मैंने शहर की ऐतिहासिक विरासत से प्रेरणा ली और इस योजना को लेकर आया, जो हमें संशोधित एमवी एक्ट के उद्देश्य को प्रभावी तरीके से हासिल करने में मदद कर सकता है.' कुँवर ने हालांकि कहा कि सद्भावना के आधार पर सभी अपराधों को माफ नहीं किया जा सकता है. उन्होंने कहा, ‘अगर कोई व्यक्ति शराब के नशे में या शराब के प्रभाव में पाया जाता है, जिसकी बिक्री और खपत बिहार में प्रतिबंधित है, तो हमारे पास कानून के मुताबिक कार्रवाई करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचता है.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: चालान से बचने के लिए कागज दुरुस्त कराने में जुटे लोग