NDTV Khabar

नागरिकता संशोधन बिल और NRC के मद्देनजर यहां मस्जिदों से होने लगा ऐलान

कर्नाटक में मुसलमानों के सरकारी पहचान पत्र बनवाने के लिए मस्जिदों से ऐलान शुरू किया गया, कई संस्थाएं डाटा तैयार करने में जुटीं

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नागरिकता संशोधन बिल और NRC के मद्देनजर यहां मस्जिदों से होने लगा ऐलान

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. अल्पसंख्यक विभाग की तरफ से सर्कुलर जारी किया गया
  2. आधार व अन्य सरकारी दस्तावेजों की अहमियत बताई जा रही
  3. कर्नाटक में तकरीबन 82 लाख मुसलमानों में बांग्लादेशी भी
बेंगलुरु:

नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजनशिप (NRC) और नागरिकता संशोधन बिल (CAB) की वजह से जो माहौल बना है उसमें कर्नाटक की मस्जिदों और दूसरी संस्थाओं में पहचान के लिए सरकारी दस्तावेज बनाने से जुड़ी बारीकियां बताई जा रही हैं. इस सिलसिले में हालांकि पिछले महीने अल्पसंख्यक विभाग की तरफ से सर्कुलर जारी किया गया लेकिन मौजूदा हालात में अब इस पर तेजी से काम हो रहा है.

कर्नाटक की सभी करीब 11 हजार मस्जिदों के साथ-साथ एनजीओ और अन्य संस्थाएं मुसलमानों को बता रही हैं कि आधार या इस जैसे दूसरे सरकारी दस्तावेजों की क्या अहमियत है. बताया जा रहा है कि यह दस्तावेज कैसे बनवाएं. सरकार की अल्पसंख्यकों से जुड़ी छोटी-बड़ी संस्थाएं इसमें मदद कर रही हैं.

कर्नाटक में तकरीबन 82 लाख मुसलमान रहते हैं. यह संख्या देश के दूसरे हिस्सों की तुलना में भले ही काफी कम है लेकिन यहां बांग्लादेश के लोग भी हैं. पुलिस को इनपुट मिले हैं कि कूड़े की सफाई से बांग्लादेश के नागरिक जुड़े हुए हैं. हाल ही में बांग्लादेश और अफ्रीका के 75 नागरिकों के यहां से प्रत्यर्पण की कार्रवाई की गई है. अब कर्नाटक सरकार के अल्पसंख्यक विभाग की तरफ से सभी मुस्लिम संस्थाओं को सर्कुलर जारी करके सरकारी पहचान पत्रों के साथ-साथ डेटा बेस तैयार करने को कहा गया है.


नागरिकता संशोधन बिल संसद में पारित होने पर इस बड़े इलाके में खुशी की लहर

सरकार की पहल के बाद गली-मोहल्ले में सभी छोटी-बड़ी संस्थाओं ने कानूनी तौर पर मुसलमानों के लिए वैद्य पहचान पत्र बनाने की कवायद शुरू कर दी है.

Citizenship Amendment Bill : अमित शाह ने कहा- कांग्रेस नेताओं के बयान और पाकिस्‍तान के नेताओं के बयान एक जैसे

टिप्पणियां

VIDEO : राज्यसभा में नागरिकता संशोधन बिल पारित



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... इमरान खान बोले- पीएम मोदी के सामने रखा था शांति प्रस्ताव लेकिन झेलना पड़ा अवरोध

Advertisement