आयकर विभाग ने लोगों को किया आगाह, रिफंड का वादा करने वाले इस तरह के 'ई-मेल या मैसेज' पर नहीं करें क्लिक

मंत्रालय ने कहा था कि पांच लाख रुपये तक के लंबित रिफंड जारी करने के काम में तेजी लाई जाएगी. इससे 14 लाख करदाताओं को लाभ होगा.

आयकर विभाग ने लोगों को किया आगाह, रिफंड का वादा करने वाले इस तरह के 'ई-मेल या मैसेज' पर नहीं करें क्लिक

आयकर विभाग ने फिशिंग मैसेज के प्रति आयकरदाताओं को सतर्क रहने को कहा (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

सरकार साइबर अटैक (Cyber Attack) को लेकर लगातार लोगों का सावधान करती आ रही है. इस बीच, आयकर विभाग (Income Tax Dept) ने आयकरदाताओं को रिफंड का वादा करने वाले ‘फिशिंग' ई-मेल और संदेश के प्रति आगाह किया है. साथ ही करदाताओं की इस तरह के किसी भी ई-मेल पर क्लिक नहीं करने को कहा है. आयकर विभाग ने अपने ट्वीट में एक मैसेज का स्क्रीनशॉट की शेयर किया गया है, जिसमें लिखा है कि कोरोनावायरस की वजह से सरकार ने सभी आयकरदाताओं को रिफंड देने का फैसला किया. इस मुश्किल समय में वित्तीय राहत पाने के लिए लिंक पर क्लिक करें. आयकर विभाग ने इस तरह के मैजेस और ई-मेल से बचने को कहा है. 

विभाग ने रविवार को ट्वीट कर करदाताओं को सतर्क करते हुए कहा कि वे ऐसे किसी लिंक पर क्लिक नहीं करें, जिसमें रिफंड का वादा किया गया हो. ‘‘ये संदेश आयकर विभाग की ओर से नहीं भेजे गए हैं।''

ताजा आंकड़ों के अनुसार, 8-20 अप्रैल के दौरान विभाग ने विभिन्न श्रेणी के करदाताओं को 9,000 करोड़ रुपये से अधिक के 14 लाख रिफंड जारी किए हैं. इनमें व्यक्तिगत, हिंदू अविभाजित परिवार, प्रॉपराइटर, फर्म, कॉरपोरेट, स्टार्टअप्स और लघु एवं मझोले उपक्रम (एसएमई) श्रेणी के आयकरदाता शामिल हैं. वित्त मंत्रालय ने आठ अप्रैल को कहा था कि वह कोविड-19 की वजह से प्रभावित लोगों और कंपनियों को राहत के लिए आयकर रिफंड जारी करने की प्रक्रिया को तेज करेगा. 

मंत्रालय ने कहा था कि पांच लाख रुपये तक के लंबित रिफंड जारी करने के काम में तेजी लाई जाएगी. इससे 14 लाख करदाताओं को लाभ होगा.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com