LAC पर तनाव घटाने के लिए भारत-चीन तैयार, दोनों पक्षों ने कहा - 'सकारात्मक' रही वार्ता

सेना ने बयान जारी करके कहा है कि वेस्टर्न सेक्टर में डिसइंगेजमेंट को लेकर दोनो पक्षों के बीच सकारात्मक और व्यवहारिक बातचीत हुई, इससे दोनों पक्षों के बीच आपसी विश्वास और समझ बढ़ेगी.

LAC पर तनाव घटाने के लिए भारत-चीन तैयार, दोनों पक्षों ने कहा - 'सकारात्मक' रही वार्ता

भारत और चीन के बीच लद्दाख सीमा पर लंबे अरसे से तनाव की स्थिति है (प्रतीकात्‍मक फोटो)

नई दिल्ली:

India-China stadoff: पूर्वी लद्दाख (East ladakh)में जारी तनाव को घटाने के लिये भारत और चीन के कोर कमांडर के 9वें दौर की बातचीत के बाद सेना ने बयान जारी करके कहा है कि वेस्टर्न सेक्टर में डिसइंगेजमेंट को लेकर दोनो पक्षों के बीच सकारात्मक और व्यवहारिक चर्चा हुई.  इससे दोनों पक्षों के बीच आपसी विश्वास और समझ बढ़ेगी. बयान के अनुसार, दोनों देश इस बात से सहमत हुए है कि फ्रंट लाइन के सैनिकों को हटाने की प्रक्रिया में तेजी लाई जाए. दोनों देशों के सेनाओं के बीच 10वें राउंड की बातचीत जल्द होगी. इसके साथ ही इस बात पर सहमति जताई गई कि दोनों देशों की सेनाएं सीमा पर संयम बरतेगी और शांति और सौहार्द बनाए रखेंगी.

राहुल गांधी का PM मोदी पर तीखा हमला- 'Mr. 56 इंच ने महीनों से चीन का नाम नहीं लिया है'

भारत और चीन के कार्प्‍स कमांडर लेवल की बैठक 24 जनवरी को चीन के माल्‍डो-चुशुल बॉर्डर पर हुई थी. दोनों पक्षों के बीच लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (LAC) के आसपास, वेस्‍टर्न सेक्‍टर पर सैनिकों की संख्‍या कम करने के मसले पर चर्चा हुई. दोनों देशों के अनुसार, बातचीत सकारात्‍मक, व्‍यावहारिक और रचनात्‍मक रही जिससे आपसी सहमति और समझ बनी है. दोनों पक्ष अग्रिम मोर्चे के सैनिकों को जल्‍द ही हटाने पर सहमत हुए हैं.दोनों पक्षों ने अपने नेताओं के बीच बनी सहमति का पालन करने, बातचीत के लिए अच्‍छा माहौल बनाने के साथ 10वें दौर की बातचीत जल्‍द ही आयोजित करने को लेकर भी रजामंदी जताई.

भारत-चीन सेना के बीच सिक्किम में हुई थी मामूली झड़प, स्थानीय कमांडरों ने सुलझाया मामला :  सेना

गौरतलब है कि पूर्वी लद्दाख में चल रहे तनाव (Ladakh Standoff) को लेकर भारत और चीन के बीच कमांडर स्तर की 9वें दौर (India China 9th round Talk) की बातचीत सोमवार को सुबह लगभग 2:30 बजे खत्म हुई. मोल्डो में रविवार सुबह करीब 9.30 बजे शुरू होने के बाद यह बैठक 15 घंटे से ज़्यादा समय तक चली.  बैठक में भारत की ओर से सेना के 14 कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन और चीन की तरफ से दक्षिणी शिनजियांग मिलिट्री रीजन कमांडर मेजर जनरल लियू लिन ने हिस्सा लिया.बताते चलें कि पूर्वी लद्दाख में विभिन्न पवर्तीय क्षेत्रों में भारतीय थल सेना के कम से कम 50,000 जवान युद्ध की तैयारियों के साथ अभी तैनात हैं. दरअसल, गतिरोध के हल के लिए दोनों देशों के बीच कई दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन अब कर कोई ठोस नतीजा नहीं निकला है. अधिकारियों के अनुसार चीन ने भी इतनी ही संख्या में अपने सैनिकों को तैनात किया है. 


भारत-चीन सेना के बीच सिक्किम में हुई थी मामूली झड़प: भारतीय सेना

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com