भारत ने बाघों की गणना करने का अनोखा कीर्तिमान बनाया, गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज

भारत में सन 2018 की बाघ गणना में कैमरा ट्रैपिंग के जरिए दुनिया का सबसे बड़ा वन्यजीव सर्वेक्षण करके कीर्तिमान स्थापित किया

भारत ने बाघों की गणना करने का अनोखा कीर्तिमान बनाया, गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज

भारत को बाघों की गणना के लिए दुनिया के सबसे बड़े सर्वेक्षण के लिए गिजीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में स्थान मिला है.

खास बातें

  • प्रकाश जावड़ेकर ने कहा- आत्मनिर्भर भारत का एक शानदार उदाहरण
  • देश में चार साल पहले ही बाघों की संख्या दोगुनी करने का संकल्प पूरा
  • देश में 1,21,337 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र का सर्वेक्षण किया गया
नई दिल्ली:

भारत ने एक अनोखा कीर्तिमान बनाकर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में स्थान बनाया है. यह रिकॉर्ड है देश में बाघों की गणना का. भारत ने सन 2018 की बाघ गणना (India's 2018 tiger census) ने कैमरा ट्रैपिंग के जरिए दुनिया का सबसे बड़ा वन्यजीव सर्वेक्षण किया. यह एक कीर्तिमान बन गया जिसके लिए भारत को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड ( Guinness Book of World Record) में जगह मिली है.

अखिल भारतीय बाघ अनुमान 2018 के चौथे चक्र में देश में 2,967 बाघों का अनुमान लगाया गया. यह संख्या विश्व के कुल बाघों की 75 प्रतिशत होने का अनुमान है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2019 में विश्व बाघ दिवस के मौके पर इसके परिणामों की घोषणा की थी.

देश को हासिल इस उपलब्धि को एक महान क्षण बताते हुए केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ट्वीट किया कि ‘‘अखिल भारतीय बाघ अनुमान अब गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में सबसे बड़ा कैमरा ट्रैप वन्यजीव सर्वेक्षण के तौर पर दर्ज हो गया है. वास्तव में एक महान क्षण और यह आत्मनिर्भर भारत का एक शानदार उदाहरण है.''

जावड़ेकर ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में भारत ने ‘संकल्प से सिद्धि' के माध्यम से लक्ष्य से चार साल पहले ही बाघों की संख्या दोगुनी करने के अपने संकल्प को पूरा किया.

गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स की वेबसाइट पर कहा गया है कि ‘‘2018-19 में आयोजित सर्वेक्षण का चौथा चक्र संसाधन और संकलित आंकड़े, दोनों के संदर्भ में अब तक का सबसे व्यापक सर्वेक्षण था.'' कैमरे को 141 ​​विभिन्न क्षेत्रों में 26,838 स्थानों पर लगाया गया था और 1,21,337 वर्ग किलोमीटर (46,848 वर्ग मील) के क्षेत्र का सर्वेक्षण किया गया.

गिनीज की वेबसाइट के मुताबिक, ‘‘कुल मिलाकर, कैमरा ने वन्य जीवों की 3,48,58,623 तस्वीरें लीं, जिनमें 76,651 बाघों की तस्वीरें थीं और 51,777 तेंदुओं की तस्वीरें थीं. बाकी अन्य जीवों की तस्वीरें थीं. इन तस्वीरों से स्ट्रिप-पैटर्न-पहचान सॉफ्टवेयर का उपयोग करके 2,461 (शावकों को छोड़कर) अलग-अलग बाघों की पहचान की गई.''

VIDEO : पीएम मोदी ने कहा, अभी काफी कुछ करने की जरूरत

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com