चीन के कई और Apps पर भी भारत लगा सकता है रोक, जानिए कैसे लागू होगा प्रतिबंध

भारत सरकार ने सुरक्षा के लिहाज से गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद 59 एप्स को ब्लॉक कर दिया है. इसमें Tik Tok और UC Browser जैसे कई चर्चित ऐप्स भी शामिल हैं.

चीन के कई और Apps पर भी भारत लगा सकता है रोक, जानिए कैसे लागू होगा प्रतिबंध

Apple की रिपोर्ट में भी कहा गया था कि चीन की ऐप्स पर डेटा सुरक्षित नहीं है

नई दिल्ली:

भारत सरकार ने सुरक्षा के लिहाज से गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद 59 एप्स को ब्लॉक कर दिया है. इसमें Tiktok और UC Browser जैसे कई चर्चित ऐप्स भी शामिल हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इन 59 ऐप्स के अलावा भी कुछ और चीनी ऐप्स पर पाबंदी लग सकती है. इनके डाटा को खंगाला जा रहा है और अगर यह देश हित के खिलाफ पाई जाती हैं तो इनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी. आप यहां क्लिक करके बैन की गई सभी 59 चीनी ऐप्स की सूची देख सकते हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 15-16 जून की रात, लद्दाख स्थित गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई थी. जिसमें कर्नल समेत 20 भारतीय जवानों की जान चली गई थी. इसी के बाद से दोनों देशों के बीच तनाव जारी है. 

कैसे लागू होगा प्रतिबंध?

Newsbeep

जानकारी के मुताबिक टेलीग्राफ ऐक्ट के तहत संचार मंत्रालय इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर को किसी भी वेबसाइट या ऐप का डेटा रोकने को कह सकती है. इन सभी ऐप का डेटा अगले एक-दिन में रोक दिया जाएगा. गूगल प्ले स्टोर या ऐप स्टोर से ये ऐप हटा दी गई हैं. अब इनके अपडेट भी नहीं मिलेंगे. डाटा रोकने पर यूज़र्स को फ़ीड मिलनी बंद हो जाएगी और उन्हें केवल पुराने वीडियो ही दिखाई देंगे. चीन में इसी तरह गूगल और फेसबुक पर रोक लगी है. दुबई में व्हाट्सऐप पर चैट हो सकती है लेकिन कॉल करने का विकल्प नहीं मिलता है. चूंकि प्रतिबंध अंतरिम है, तो अब मामला एक समिति के पास जाएगा. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


मंत्रालय के संयुक्त सचिव इसके अध्यक्ष हैं व अन्य मंत्रालयों के प्रतिनिधि इसमें शामिल हैं. जिन एप्स पर प्रतिबंध लगाया गया है वो समिति के सामने अपना पक्ष रख सकती हैं. इसके बाद समिति तय करेगी कि प्रतिबंध जारी रखा जाए या हटा दिया जाए. गृह मंत्रालय ने अपनी रिपोर्ट में इन ऐप के उन दावों का खंडन किया था जिसमें कहा था कि सर्वर सिंगापुर में हैं और डेटा चीन नहीं जाता है. पिछले दिनों ऐप्पल की रिपोर्ट में भी कहा गया था कि इन ऐप्स पर डेटा सुरक्षित नहीं है.