जम्मू कश्मीर पर UN मानवाधिकार प्रमुख के बयान पर भारत का जवाब, 'जमीनी लोकतंत्र पुनर्जीवित किया'

भारत ने मंगलवार को कहा कि पड़ोसी देश द्वारा जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों को घुसपैठ कराने और लोकतांत्रिक प्रक्रिया को पटरी से उतारने के लगातार कोशिशों के बावजूद उसने जम्मू-कश्मीर में जमीनी स्तर पर लोकतंत्र को पुनर्जीवित किया है.

जम्मू कश्मीर पर UN मानवाधिकार प्रमुख के बयान पर भारत का जवाब, 'जमीनी लोकतंत्र पुनर्जीवित किया'

मानवाधिकार परिषद के 45वें सत्र में एक बहस के दौरान भारत ने मिशेल बेचलेट के बयान पर खेद जताया

जिनेवा:

भारत ने मंगलवार को कहा कि पड़ोसी देश द्वारा जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में आतंकवादियों को घुसपैठ कराने और लोकतांत्रिक प्रक्रिया को पटरी से उतारने के लगातार कोशिशों के बावजूद उसने जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में जमीनी स्तर पर लोकतंत्र को पुनर्जीवित किया है और यहां सामाजिक और आर्थिक विकास को गति दी है. यहां मानवाधिकार परिषद के 45वें सत्र में एक बहस के दौरान भारत के स्थायी प्रतिनिधि इंद्रमणि पांडे (Indra Mani Pandey) ने क्षेत्र के बारे में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार प्रमुख मिशेल बेचलेट (UN human rights chief Michelle Bachelet) के बयान पर खेद व्यक्त किया. 

यह भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर : कोरोना संकट में छात्रों की मदद के लिए आगे आए शिक्षक, शुरू की कम्युनिटी क्लासेस

पांडे ने कहा कि भारत सभी मानवाधिकार को बरकरार रखने के लिए प्रतिबद्ध है. उन्होंने कहा कि देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता और देश के आंतरिक मामलों में दखल नहीं देते हुए मानवाधिकार के एजेंडे और इस पर बहस निष्पक्ष और पारदर्शी तरीके से होनी चाहिए. 

यह भी पढ़ें: देश की आजादी के 73 साल बाद जम्मू कश्मीर के माछिल को मिली 24 घंटे बिजली


जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को 2019 में खत्म किए जाने का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि इस बदलाव की वजह से केंद्रशासित क्षेत्र के लोग उन्हीं मूलभूत अधिकारों को हासिल कर रहे हैं, जो अधिकार भारत के अन्य हिस्सों के लोगों के लिए हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video: जम्मू-कश्मीर में हथियारों को तरस रहे हैं आतंकी



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)