NDTV Khabar

भारत का चीन को जवाब, कहा- तकनीकी समस्या आने के बाद यूएवी चीन की सीमा में चला गया

भारत ने गुरुवार को कहा कि कुछ तकनीकी समस्या आने और नियंत्रण कक्ष से सम्पर्क टूट जाने के बाद एक मानव रहित यान (यूएवी) सिक्किम सेक्टर में चीन से लगती सीमा के 'पार चला गया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारत का चीन को जवाब, कहा- तकनीकी समस्या आने के बाद यूएवी चीन की सीमा में चला गया

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  1. भारत ने ड्रोन के उसकी सीमा में प्रवेश करने पर अपना रुख स्पष्ट किया.
  2. चीन ने कहा था कि हमारी संप्रभुता का उल्लंघन हुआ.
  3. भारत ने कहा कि तकनीकी खराबी की वजह से ऐसा हुआ.
नई दिल्ली: भारत ने गुरुवार को कहा कि कुछ तकनीकी समस्या आने और नियंत्रण कक्ष से सम्पर्क टूट जाने के बाद एक मानव रहित यान (यूएवी) सिक्किम सेक्टर में चीन से लगती सीमा के 'पार चला गया.' रक्षा मंत्रालय ने कहा कि भारतीय सीमा सुरक्षा बल कर्मियों ने मानक प्रोटोकॉल के तहत तत्काल अपने चीनी समकक्षों से सम्पर्क करके उन्हें यूएवी का पता लगाने के लिए कहा जिसके बाद उन्होंने उसकी स्थिति के बारे में जानकरी दी.

बीजिंग में चीन के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि भारतीय ड्रोन ने हाल में उसकी वायुसीमा में 'घुसपैठ' की और सिक्किम सेक्टर में दुर्घटनाग्रस्त हो गया. इसके बाद उसने चीन की क्षेत्रीय संप्रभुता के उल्लंघन को लेकर भारत के समक्ष एक राजनयिक विरोध दर्ज कराया. रक्षा मंत्रालय ने यहां कहा कि दुर्घटना के वास्तविक कारण की जांच की जा रही है. सूत्रों ने कहा कि यूएवी भारतीय सेना का है. यह घटना चीन के विदेश मंत्री वांग यी की भारत यात्रा से कुछ ही दिन पहले सामने आयी है. वांग यी रूस, भारत-चीन त्रिपक्षीय बैठक में हिस्सा लेने के लिए यहां आ रहे हैं. 

यह भी पढ़ें - अब चीन ने भारत पर लगाया यह सनसनीखेज आरोप और कहा- हमारी संप्रभुता का उल्लंघन हुआ

रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा, 'एक भारतीय यूएवी भारतीय क्षेत्र में एक नियमित प्रशिक्षण अभियान पर था. कुछ तकनीकी समस्या के चलते उसका सम्पर्क नियंत्रण कक्ष से टूट गया जिससे यूएवी सिक्किम सेक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पार चला गया.' उसने कहा, 'मानक प्रोटोकॉल के तहत भारतीय सीमा रक्षा कर्मियों ने यूएवी का पता लगाने के लिए तत्काल अपने चीनी समकक्षों को अवगत कराया. इसकी प्रतिक्रिया में चीनी पक्ष ने यूएवी की अवस्थिति के बारे में जानकारी मुहैया करायी.' 

यह भी पढ़ें - 5 सालों में चीन बन सकता है विश्व का सबसे बड़ा आयातक देश, अमेरिका हो जाएगा पीछे

टिप्पणियां
यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि यह घटना कब हुई. बयान में कहा गया है, 'स्थापित प्रोटोकॉल के तहत भारत-चीन क्षेत्रों में स्थितियों से निपटने के लिए बने संस्थागत तंत्र के माध्यम से मामले से निपटा जा रहा है.' चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कहा कि देश ने ड्रोन द्वारा चीन की संप्रभुता का उल्लंघन करने को लेकर भारत के समक्ष राजनयिक विरोध दर्ज कराया है.

VIDEO: चीन ने विवादित डोकलाम में सड़क निर्माण का काम आगे बढ़ाया


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement